Andhra pradeshBreaking Newsराजनीतीहरियाणा

हरियाणा किसान मंच 28 जनवरी से उपायुक्त कार्यालय पर लगाएगा पक्का मोर्चा

राजेंद्र कुमार
सिरसा,22जनवरी। किसानों की मांगों को लेकर प्रशासन व सरकार द्वारा कोई गंभीरता न दिखाने के विरोध स्वरूप हरियाणा किसान मंच की ओर से 28 जनवरी से लघु सचिवालय में पक्का मोर्चा लगाया जाएगा। इस सिलसिले में हरियाणा किसान मंच की टीम ने प्रदेशाध्यक्ष प्रहलाद सिंह भारूखेड़ा के नेतृत्व में शनिवार को जिले के कालांवाली, झोरडऱोही, कुरंगावाली, कमाल, पक्का शहीदां, दादू, सिंघपुरा सहित अनेक गांवों का दौरा किया और किसानों से 28 जनवरी को सिरसा में अधिक से अधिक संख्या में पहुंचने का आह्वान किया। इससे पहले तीन कृषि कानूनों के विरोध मेें शहीद भगत सिंह स्टेडियम में किसान मंच ने 435 दिनों तक निंरतर पक्का मोर्चा लगाकर विरोध दर्ज किया था।
    प्रदेशाध्यक्ष प्रह्लाद भारूखेड़ा ने बताया कि गुलाबी सुंडी व बेमौसमी बरसात के कारण किसानों की लगभग फसलें चौपट हो गई थी, जिसका सरकार ने अभी तक मुआवजा नहीं दिया है। मुबावजा न मिलने के कारण किसानों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। मुआवजे को लेकर कई बार सरकार को किसान अवगत करवा चुके हैं, लेकिन कोई सुनवाई नहीं हुई है। भारूखेड़ा ने कहा कि बार-बार अवगत करवाने के बावजूद भी सरकार व प्रशासन ने किसानों की समस्याओं के प्रति कोई गंभीरता नहीं दिखाई, जिसके चलते मजबूरन उन्हें पक्का मोर्चा लगाना पड़ रहा है। उन्होंने कहा कि जब तक किसानों की समस्याओं का हल नहीं होता, किसान यहां से टस से मस नहीं होंगे। इस मौके पर सतपाल सिंह सिरसा, लक्खा सिंह अलीकां, गुरदीप सिंह बाबा, जरनैल अलीकां, नायब मलड़ी, जिंदा नानुआना,दलीप रायपुरिया सहित अन्य किसान उपस्थित थे।
    मांगों का जिक्र करते हुए भारूखेड़ा ने बताया कि गुलाबी सुंडी से खराब हुई नरमे की फसल का मुआवजा दिया जाए व बकाया बीमा क्लेम की राशि भी दी जाए। नहरी पानी में कटौती करके नहरें महीने में सात दिन चलाई जा रही हैं, जबकि पहले 15 दिन नहरें चलती थी। किसानों के ट्यूबवैल के कनैक्शन जारी किए जाएं। हाल ही में यूरिया खाद की कमी के कारण किसानों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है,यूरिया उपलब्ध करवाई जाए। बुढ़ापा पेंशन में कटौती की जा रही है, जिन लोगों की पेंशन बंद की गई है, उसे पुन: बहाल किया जाए। पक्के खाल बनाने पर फव्वारा सिस्टम की शर्तांे को हटाया जाए।

Donate Now
Back to top button