Breaking NewsIndia- World देश-दुनियाUttrakhandराजनीती

उत्तराखण्ड में भी बगावती तेवर : वन मंत्री हरक सिंह रावत मंत्रिमंडल से बर्खास्त, बीजेपी से 6 साल के लिए निकाले

Rebellion in Uttarakhand too: Forest Minister Harak Singh Rawat sacked from cabinet, expelled from BJP for 6 years

उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने राज्य के वन मंत्री हरक सिंह रावत को मंत्रिमंडल से बर्खास्त कर दिया है, मुख्यमंत्री कार्यालय ने रविवार को इसकी जानकारी दी। कोटद्वार से विधायक हरक सिंह रावत को  छह साल के लिए भाजपा से निष्कासित भी कर दिया गया है।

हरीश रावत और पार्टी के अन्य वरिष्ठ नेताओं की मौजूदगी में सोमवार को हरक सिंह रावत के कांग्रेस में शामिल होने की संभावना है।

कैबिनेट से निष्कासित, भाजपा
सूत्रों ने कहा कि सीएम धामी ने राज्यपाल को पत्र लिखकर हरक सिंह रावत को उत्तराखंड कैबिनेट से हटाने की सिफारिश की थी।

आगामी विधानसभा चुनाव से पहले कांग्रेस के कुछ नेताओं से मुलाकात के बाद उन्हें कथित तौर पर कैबिनेट और पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से हटा दिया गया है। वह रविवार को कथित तौर पर दिल्ली आए थे।

हरक सिंह रावत कांग्रेस में शामिल होंगे
उत्तराखंड के पूर्व सीएम हरीश रावत और उत्तराखंड कांग्रेस अध्यक्ष गणेश गोदियाल की मौजूदगी में आज सोमवार को दोपहर 12 बजे हरक सिंह रावत के कांग्रेस में शामिल होने की संभावना है.

हरक सिंह रावत के साथ भाजपा के दो और विधायकों के भी कांग्रेस में शामिल होने की संभावना है।

हरक सिंह रावत उन दस विधायकों में शामिल थे, जिन्होंने कांग्रेस नेता हरीश रावत के खिलाफ बगावत की और 2016 में भाजपा में शामिल हो गए।

पहले ही चल रहे थे नाराज
डॉ हरक सिंह रावत कुछ दिन पूर्व ही मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी की अध्यक्षता में आयोजित हो रही कैबिनेट की बैठक छोड़ निकल गए थे। उनकी नाराजगी का कारण उस समय कोटद्वार मेडिकल कॉलेज का प्रस्ताव न आना था लेकिन जानकारों का कहना है कि हरक उस वक्त भी लैंसडाउन सीट से अपनी बहू के लिए टिकट की मांग कर रहे थे। हरक की नाराजगी की वजह से भाजपा में हडकंप मच गया था और 24 घंटे तक हरक को मानाने के प्रयास किए जाते रहे। मुख्यमंत्री और हरक के बीच वार्ता के बाद उस मामले का अंत हो पाया था।

उत्तराखंड विधानसभा चुनाव एक ही चरण में 14 फरवरी, 2022 को होने हैं। मतों की गिनती 10 मार्च को होगी।

2017 में उत्तराखंड में पिछला विधानसभा चुनाव एक ही चरण में हुआ था और भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने राज्य के 70 विधानसभा क्षेत्रों में से 57 पर जीत हासिल की थी।

इस बार, उत्तराखंड विधानसभा चुनावों में सत्तारूढ़ भाजपा, हरीश रावत के नेतृत्व वाली कांग्रेस और अरविंद केजरीवाल की आम आदमी पार्टी के बीच त्रिकोणीय मुकाबला होने की संभावना है।

 

Donate Now
Back to top button