Breaking Newsराजनीतीहरियाणा

ऐलनाबाद उप चुनाव: शह मात का खेल हुआ तेज

Ellenabad by-election: The game of checkmate intensified

-14 चुनाव में से 11 चुनाव चौ. देवीलाल के नेतृत्व वाली पार्टी जीती
-नेताओं की जुबान फिसल कर व्यक्तिगत आरोपों तक आ पहुंची
-कुमारी सैलजा ने खुद संभाली चुनाव की कमान
राजेंद्र कुमार
सिरसा,20अक्तूबर। हरियाणा के सिरसा में ऐलनाबाद विधानसभा सीट पर आगामी 30 अक्तूबर को प्रस्तावित उप चुनाव में दंगल में उतरे सभी दलों में शह मात का खेल शुरू हो गया है। मुख्य तौर पर संघर्ष इंडियन नेशनल लोकदल प्रत्याशी अभय चौटाला,भाजपा-जजपा गठबंधन प्रत्याशी गोबिंद कांडा व कांग्रेस प्रत्याशी पवन बैनीवाल के बीच बना हुआ है। शह मात की लड़ाई में नेताओं की जुबान फिसल कर व्यक्तिगत आरोपों तक आ पहुंची है।
        ज्यों -ज्यों चुनावी तिथि करीब आ रही है,चुनाव प्रचार जोर पकडऩे लगा है,शह मात की लड़ाई तेज हो गई है। राष्ट्रीय दल कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव व पार्टी प्रभारी विवेक बंसल व पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा यहां तीन बार आकर मत की अपील कर चुके हैं जबकि प्रदेशाध्यक्ष कुमारी सैलजा आरम्भ से ही सिरसा डेरा लगाकर कमान संभाली हुई हैं। यह टिकिट प्रदेशाध्यक्ष कुमारी सैलजा के कोटे से हाल ही में भाजपा छोड़ पार्टी में आए पवन बैनीवाल को मिली बताई जा रही है इसलिए कुमारी सैलजा की प्रतिष्ठा इसके साथ जुड़ी हुई है। विशेषकर कुमारी सैलजा के धड़े के नेता प्रदेशभर से यहां आकर चुनावी समर में दौड़ धूप कर रहे हैं। इनेलो से भाजपा और फिर कांग्रेस में आए पवन बैनीवाल को कांग्रेस का कल्चर कितना रास आता है यह तो आने वाला वक्त ही बता पाएगा?
      सत्तारूढ़ दल भाजपा-जजपा बरौदा सीट उप चुनाव में हाथ से खो देेने के बाद अबकी बार फूंक फूंक कर कदम रख रही है। प्रदेशाध्यक्ष औम प्रकाश धनखड़ दो बार यहां आकर चुनाव की नब्ज टटोल चुके हैं। उनके अलावा पूर्व प्रदेशाध्यक्ष एवं मुख्यमंत्री के खासमखास कहे जाने वाले सुभाष बराला,मुख्यमंत्री के राजनीतिक सचिव कृष्ण बेदी,पूर्व मंत्री कृष्ण पंवार,पूर्व मंत्री मनीष ग्रोवर, रणजीत सिंह व गोपाल कांडा के अलावा संगठन के महामंत्री संदीप जोशी ने यहंा डेरा डाला हुआ है। वहीं जजपा नेता व पूर्व सांसद अजय चौटाला व उनके पुत्र दिग्विजय चौटाला भी जाट बहुल गांवों में जाकर प्रचार कर रहे हैंं। प्रत्याशी गोबिंद कांडा के चुनाव कार्यालय के अलावा भाजपा जिला मुख्यालय पर अलग से कार्यालय खोलकर हर गतिविधि पर पैनी नजर रखे हुए है l
,चुनाव की सारी रणनीति यहीं से तैयार होती है। आगामी 24-25 अक्तूबर को मुख्यमंत्री मनोहर लाल व उप मुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला भी चुनाव सभा को संबोधित करने ऐलनाबाद आ रहे हैं। किसान आदोंलन के चलते गावों में भाजपा प्रत्याशी व उनके नेताओं को विरोध का सामना भी करना पड़ रहा है मगर भारी भरकम पुलिस अमला इनकी हिफाजत करते हुए गावों में नुक्कड़ सभाएं करवा रहा है। भाजपा इनेलो प्रत्याशी के तोड़ के रूप में उन्हीें के परिवार के बिजली मंत्री रणजीत सिंह,पूर्व सांसद अजय चौटाला,जिलाध्यक्ष भाजपा आदित्य चौटाला व युवा जजपा नेता दिग्विजय चौटाला को उपयोग कर रही है।
    इंडियन नेशनल लोकदल का ऐलनाबाद हमेशा से ही गढ़ रहा है। 1967 में अस्तित्व में आई इस सीट पर अब तक 14 चुनाव हुए जिनमें से 11 बार चौ. देवीलाल के नेतृत्व वाली पार्टी ने ही जीते हैं। अभय सिंह चौटाला इस सीट पर चौथी बार भाग्य आज्मा रहे हैं। पूर्व मुख्यमंत्री औम प्रकाश चौटाला एक विशेष प्रचार रथ से चुनाव प्रचार कर रहे हैं।
जेबीटी शिक्षक घोटाला केस से बाहर आने के बाद औम प्रकाश पहली बार ऐलनाबाद हलके में जा रहे हैं,इसलिए उन्हें देखने व सुनने के लिए काफी भीड़ उमड़ रही है। इसके अलावा पार्टी के कई पदाधिकारी व पूर्व मंत्री भी प्रचार में जुटे हैं। किसान आदोंलन इनेलो प्रत्याशी के लिए सुखदायी बताया जा रहा है। अभय चौटाला अपनी जीत के प्रति खासे आश्वस्त हैं। अब ऐलनाबाद के विधायक पद का ताज किसके सिर बंधेगा यह तो आने वाला वक्त ही बता पाएगा?

Donate Now
Back to top button
x

COVID-19

India
Confirmed: 34,633,255Deaths: 473,326
Close
Close