Breaking Newsराजनीतीहरियाणा

हरियाणा के डीजीपी के चयन को लेकर 26 जुलाई को यूपीएससी की बैठक- वरिष्ठ आईपीएस अधिकारी पीके अग्रवाल सबसे आगे

UPSC meeting on July 26 regarding selection of DGP of Haryana - Senior IPS officer PK Agarwal at the fore

हरियाणा में डीजीपी बनने की कतार में खड़े चार अफसरों में इस समय सीधी टक्कर है। 1988 बैच के आईपीएस अधिकारी पीके अग्रवाल, 1989 बैच के आरसी मिश्रा, 1989 बैच के ही मोहम्मद अकील और 1990 बैच के शत्रुजीत कपूर के नाम डीजीपी पद के लिए आगे हैं। हरियाणा सरकार ने जो सात नाम यूपीएससी को भेजे हैं, उनमें से तीन नाम का पैनल वापस आएगा।

हरियाणा के नए डीजीपी को लेकर चयन प्रक्रिया जारी है l इस प्रक्रिया के तहत हरियाणा सरकार द्वारा यूपीएससी को भेजे पेनल में 1988 बैच के आईपीएस अधिकारी पीके अग्रवाल, 1989 बैच के आरसी मिश्रा, 1989 बैच के ही मोहम्मद अकील,1990 बैच के शत्रुजीत कपूर, आईपीएस अधिकारी देसराज सिंह, आलोक राय और एसके जैन का नाम शामिल हैं l

हरियाणा के डीजीपी के चयन के लिए यूपीएससी पैनल की 26 जुलाई सोमवार को बैठक होनी है l इस बैठक में 3 अधिकारीयों के नाम का पैनल हरियाणा सरकार को यूपीएससी द्वारा भेजा जायेगा l इन तीन में से किसी एक को डीजीपी के रूप में चयन हरियाणा सरकार द्वारा किया जायेगा l यह पूरी प्रक्रिया 31 जुलाई तक पूरी कर ली जाएगी l सार यह है कि 31 जुलाई के दिन वर्तमान डीजीपी मनोज यादव की जगह नए डीजीपी होंगे l

बतादें कि यूपीएसी की यह बैठक पहले 24 जुलाई को होनी थी जो किसी कारणवश टल गई। अब 26 जुलाई को बैठक संभावित है। इसमें हरियाणा सरकार की ओर से भी एक अधिकारी मौजूद रहेंगे।

वर्तमान में हरियाणा के प्रशासनिक हलकों में नए डीजीपी के संभावित नाम का चर्चा सबसे चर्चित विषय है l राजनैतिक व् प्रशासनिक गलियारों में चर्चा है कि इस समय पैनल में शामिल सभी आईपीएस अधिकारी अपने लिए प्रयासों में जुटे है l पैनल में आईपीएस अधिकारी देसराज सिंह, आलोक राय और एसके जैन का नाम भी शामिल हैं। कोई बड़ी बात नहीं कि यूपीएससी में इनमें से भी किसी का नाम शामिल कर लिया जाए, लेकिन अभी तक की जानकारी के मुताबिक चार अधिकारियों के नाम शीर्ष पर है।

पीके अग्रवाल का दावा भारी
माना जा रहा है कि इन में से जी चार अधिकारीयों की दावेदारी मजबूत दिख रही है उनमें वरीयता की लिहाज से 1988 बैच के आईपीएस अधिकारी पीके अग्रवाल का दावा भारी दीखता है क्योंकि पीके अग्रवाल वर्तमान में सबसे वरिष्ठ अधिकारियों में से हैं। शांत स्वभाव के हैं और लॉबिंग के चक्कर में नहीं पड़ते हैं। डीजी क्राइम और डीजी विजिलेंस जैसे महत्वपूर्ण पदों पर सेवाएं दे चुके हैं। वर्तमान में डीजी विजिलेंस के पद पर हैं। पुलिस सेवा के दौरान जहां भी रहे निर्विवाद रहे हैं। 

 

यह भी पढ़े   जंभेश्वर महाराज मंदिर में माथा टेक दुष्यंत ने किया आगाज

प्रमुख दावेदार आरसी मिश्रा
इस पद के अन्य प्रमुख दावेदार आरसी मिश्रा, 1989 बैच वरिष्ठ अधिकारी हैं l धार्मिक प्रवृत्ति के हैं और संघ की विचारधारा से जुडे़ हैं। पूरे सेवाकाल में निर्विवाद रहे हैं और संघ में अंदरूनी पकड़ मजबूत है। पुलिसिंग के काम से काम रखते हैं, कई महत्वपूर्ण पदों पर अपनी सेवाएं दे चुके हैं। वर्तमान में पुलिस हाउसिंग कार्पोरेशन के एमडी हैं। यहां भी कई उल्लेखनीय कार्य किए हैं।

 

डीजी क्राइम मोहम्मद अकील प्रमुख दावेदार
अन्य दावेदारों में मोहम्मद अकील, 1989 बैच के अधिकारी हैं l लंबे समय तक हरियाणा में एडीजीपी ला एंड आर्डर रहे हैं। वर्तमान में डीजी क्राइम और एससीआरबी के डीजी हैं। सरकार के साथ उनके संबंध अच्छे हैं। कई जिलों में एसपी रहते हुए उन्होंने अपने काम का लोहा मनवाया है । अपराध के मामलों को सुलझाने में माहिर हैं।

 

सरकार के करीबी शत्रुजीत कपूर 
मुख़्यमंत्री मनोहर लाल की पहली सरकार में एडीजीपी सीआईडी के तौर पर में सेवाएं दे चुके शत्रुजीत कपूर, 1990 बैच के आईपीएस अफसर हैं l शत्रुजीत कपूर हरियाणा में कई अहम पदों पर अपनी सेवाएं दे चुके हैं। सरकार के करीबी अधिकारियों में गिनती है। एडीजीपी सीआईडी के तौर पर मनोहर-1 में उनकी सेवायें काफी सहराहनीय रही हैं । बिजली निगमों को घाटे से उबारने में अहम काम किया है। वर्तमान में डीजी जेल और परिवहन विभाग के प्रमुख सचिव के तौर पर सेवाएं दे रहे हैं।

 

चारों अधिकारी अपने-अपने हिसाब से केंद्र में जोड़ तोड़ कर रहे हैं, लेकिन किसका नंबर आएगा यह 31 जुलाई से पहले ही तय हो जाएगा। तीन नाम के वापस आने वाले पैनल में किसका नाम कटेगा यह भी महत्वपूर्ण होगा, क्योंकि  जो तीन नाम आएंगे उन्हीं में से मुख्यमंत्री नए डीजीपी के नाम की घोषणा करेंगे। वरिष्ठता के हिसाब से तो पीके अग्रवाल का नाम ऊपर चल रहा है, लेकिन सरकार की पसंद कौन है यह 31 जुलाई को तय होगा।

यह भी पढ़े   कोविड-19 बेटे बेटी के बाद मां को भी मिली छुट्टी पखवाड़े भर बाद मिलेगा बच्चों को मां का दुलार

डीजीपी मनोज यादव वापस आईबी में जाने का मूड बना चुके हैं। इसे लेकर उन्होंने सरकार से गुजारिश की है और सरकार ने उनकी बात मान भी ली है। हरियाणा सरकार डीजीपी मनोज यादव को 31 जुलाई को रिलीव करेगी। यूपीएससी को भेजे जवाब में सरकार ने 31 जुलाई की तिथि लिखकर भेजी है। पिछले करीब एक माह से हरियाणा की आईपीएस लाबी में यह चर्चा है कि नया डीजीपी कौन होगा।

Donate Now
Back to top button
x

COVID-19

India
Confirmed: 33,347,325Deaths: 443,928
Close
Close