Breaking Newsदुनियाशिक्षा

जीएसआईटीआई ने आपदा को अवसर में बदला : महामारी के बीच, भूवैज्ञानिक विषयों पर ऑनलाइन प्रशिक्षण में रिकॉर्ड तोड़ भागीदारी

GSITI turns disaster into opportunity amidst epidemic, record breaking participation in online training on geological topics

हैदराबाद 30 नवंबर 2020- जियोलॉजिकल सर्वे ऑफ इंडिया ट्रेनिंग इंस्टीट्यूट (जीएसआईटीआई), प्रमुख भू-वैज्ञानिक प्रशिक्षण संस्थान, जो हैदराबाद स्थित मुख्यालय पर पिछले 44 वर्षों से प्रशिक्षण प्रदान कर रहा है। इस कोरोना काल के दौरान हुए जीएसआइटी के ऑनलाइन प्रशिक्षण कार्यक्रम ने नया रिकॉर्ड बनाया है। अप्रैल से अक्टूबर 2020 के बीच 140 ई-ट्रेनिंग प्रोग्राम हुए जिसमें 15000 से अधिक प्रतिभागियों ने भाग लेकर एक नया रिकॉर्ड बनाया है। इससे पहले इन प्रोग्राम में प्रतिभागियों के संख्या 3000 से 5000 रहती थी।

पिछले कुछ वर्षों से जीएसआईटीआई प्रतिभागियों के कौशल को विकसित करने के लिए इन प्रशिक्षणों को प्रदान कर रहा है। इन प्रशिक्षणों से प्रतिभागी अपने लंबे करियर में अपने कार्यक्षेत्र को बेहतर ढंग से समझने में मदद करता है। प्रतिभागियों में केंद्रीय सरकार के भूवैज्ञानिकों के साथ ,खुद जीएसआई के कर्मचारी शामिल रहे।

इन विभागों ने लिया हिस्सा
इस प्रशिक्षण में कई राज्य और केंद्र विभाग जैसे एएमडी, आईबीएम विभाग,सीआईएल, ओएनजीसी, ओआईएल, एमईसीएल, एनएमडीसी आदि, राज्य डीजीएम और शैक्षिक संस्थानों ने हिस्सा लिया।

इसी के साथ, खान मंत्रालय के निर्देशानुसार जीएसआईटीआई एक विशेष अभियान भी चला रहा है। इसमें वे शैक्षिक संसथान जैसे आईआईटी, एनआईटी, केंद्रीय विश्वविद्यालय, राज्य विश्वविद्यालयों और कॉलेजों सहित विभिन्न शैक्षणिक संस्थानों के संकाय / रिसर्च स्कॉलर / पीजी और पोस्ट पीजी के छात्रों को भूवैज्ञानिक विषयों पर ऑनलाइन प्रशिक्षण प्रदान कर रहा है। पूरे भारत में 243 शैक्षणिक संस्थानों में अब तक विभिन्न भूवैज्ञानिक विषयों पर 30 ऑनलाइन प्रशिक्षण प्रदान किए गए हैं। प्रतिभागियों में प्रोफेसर, रिसर्च स्कॉलर्स, पीजी और पोस्ट पीजी स्टूडेंट्स सहित फैकल्टी शामिल हैं।

Back to top button
x

COVID-19

India
Confirmed: 10,639,684Deaths: 153,184
Close
Close