Breaking Newsराजनीतीहरियाणा

जनाब ये है भारतीय लोकतंत्र ! अढ़ाई घंटे मंत्री और सारी उम्र पेंशन और 40 साल की नौकरी पर फाकामस्ती

ढाई घंटे शिक्षा मंत्री रहे मेवा लाल ताउम्र लेंगे पुरानी पेंशन : शास्त्री

कर्मचारियों को तीस साल सेवा करने के बाद भी पेंशन नहीं
भिवानी l पेंशन बहाली संघर्ष समिति हरियाणा के प्रदेश मिडिया प्रभारी शिवकुमार शास्त्री ने कहा कि देश का इससे बड़ा दुर्भाग्य क्या होगा एक ढाई घंटे मंत्री पद पर बने रहने वाले बिहार के पूर्व शिक्षामंत्री मेवा लाल ताउम्र पुरानी पेंशन लेंगे जबकि तीस चालीस साल सेवा करने वाले सरकारी कर्मचारी जो एनपीएस में आते हैं पेंशन से वंचित हैं । हम इन नेता लोगों से पूछना चाहते हैं कि ये थोड़े से समय में इतनी बड़ी क्या सेवा कर देते हैं जिसके लिए हर बार चुनाव जीतने पर इनको अलग से पेंशन दी जाती है जबकि आर्थिक रूप से अधिकांश नेता करोड़पति, अरबपति हैं ।
ऐसा इस लिए भी है क्योंकि इनके हाथ में सत्ता है जिसके चलते ये अपने हितों को कहीं आंच नहीं आने देते जबकि कर्मचारियों की गर्दन ये अपने हाथ में समझते हैं । इनका ये भी मानना है कि हर पांच वर्ष में दस हजार के लगभग पेंशन वाले नेता तैयार हो जाते हैं अधिकांश नेता एक से ज्यादा पेंशन लेते हैं जो निर्बाध रूप से मिलती रहे इसलिए कर्मचारियों की पेंशन पर कैंची चलाई गई। ये कहते हैं
 नेताओं की पेंशन से खजाना होता है मजबूत ❓
एक नेता की पेंशन में दसों कर्मचारियों को पेंशन दी जा सकती है पर आसानी से नेता लोग अपनी पेंशन को छोड़ने वाले नहीं हैं देश में जहाँ विजय बंधु जी तो प्रदेश में विजेंद्र धारीवाल पेंशन विहीनों की आवाज को बुलंद कर रहे हैं । संघर्ष समिति किसी भी कीमत पर पुरानी पेंशन बहाल कराने के लिए संकल्पबद्ध है । हमारी सरकार से मांग है एनपीएस जो राष्ट्रीय आपदा बन चुकी है क्योंकि पूरे देश के कर्मचारी इससे परेशान हैं इसे तुरंत निरस्त कर जीपीएफ लागू कर कर्मचारियों को राहत प्रदान करें और कर्मचारियों को बड़े आंदोलनों के लिए मजबूर न किया जाए ।

Back to top button
x

COVID-19

India
Confirmed: 9,534,964Deaths: 138,648
Close
Close