Breaking Newsराजनीतीहरियाणा

अशोक तंवर कन्फ्यूजन दूर कर अभय से मिले तो जेजेपी के लिए खतरे की घंटी !

Ashok Tanwar remove confusions to meet Abhay , it's JJP's alarm bell!

एक और एक हमेशा 2 नहीं होते, ग्यारह भी बन जाते हैं और राजनीति में तो यह कई बार हुआ है कि कोई एक नेता दूसरे नेता से मिलकर एक राजनैतिक ताकत का रूप ले लेते हैं l इनेलो नेता अभय सिंह चौटाला और कांग्रेस के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष अशोक तंवर का मिलन और राजनैतिक गठबंधन की चर्चाएं हरियाणा की राजनीति में नया गुल खिला सकती हैं l राजनैतिक गलियारों में माना जा रहा है कि अभय सिंह चौटाला और अशोक तंवर का एक दूसरे की और सरकना कइयों को रास नहीं आएगा l

इस गठबंधन से सब से बड़ी बेचैनी प्रदेश के उप मुख़्यमंत्री दुष्यंत चौटाला और उसकी पार्टी जेजेपी के कर्ता-धर्ताओं को हो सकती है l ऐसे संकेत भी मिल रहे हैं l इस की बानगी डिप्टी सीएम दुष्यंत चौटाला के उस बयान से मिलती है कि बरोदा में विधानसभा उपचुनाव भाजपा और जजपा एक साथ मिलकर लड़ेंगे l इस से साफ़ जाहिर है कि अकेले बूते जेजेपी चुनाव में नहीं उतरेगी !

आपको बता दें कि बरोदा में विधानसभा उपचुनाव पर सियासी सरगरमियां तेज हो गई हैं। डिप्टी सीएम दुष्यंत चौटाला ने ऐलान किया है कि उपचुनाव में भाजपा और जजपा एक साथ मिलकर चुनाव लड़ेगी। उन्होंने कहा कि जब जजपा-भाजपा दोनों संगठन मिलकर सरकार चला रहे हैं तो आगामी बरोदा विधानसभा उपचुनाव को भी साथ मिलकर ही लड़ेंगे और इसमें जीत भी हासिल करेंगे। क्योंकि बरोदा की जनता पूरी तरह से गंठबंधन के साथ है। उन्होंने कहा कि उपचुनाव को लेकर दोनों संगठनों के नेताओं की चर्चा भी हो चुकी है।

हालाँकि अभय सिंह चौटाला और अशोक तंवर के एक होने की चर्चाओं मात्र से यह अंदाज़ा लगाना गलत होगा , क्यूंकि अशोक तंवर ने जब कांग्रेस छोड़ी तब हर कीसी के साथ जाने के लिए आतुर थे जो हुड्डा को हारने में उसका साथ दे l इसी चक्कर में वो कभी बीजेपी नेताओं के साथ जनसभा करते दिखे तो कभी दुष्यंत चौटाला के साथ स्टेज साँझा करते नज़र आये l उस समय अभय सिंह चौटाला के साथ भी एक मंच पर नज़र आये थे l इतना ही नहीं आप के साथ भी राजनैतिक पींगें बढ़ा रहे थे इस से हरियाणा में उनके समर्थक तो कन्फ्यूज़्ड हुए वहीँ वे खुद भी कन्फ्यूज़्ड दिखाई दिए l जिस तरह दिन प्रतिदिन वे एक के बाद एक बदलाव कर रहे थे इस से उनकी छवि पर असर पड़ना भी तय था l खैर जब जागो तभी सवेरा ! राजनीतिक गलियारों में चर्चा है कि राजनीति के थपेड़े खा कर अशोक तंवर अब परिपक्कव हो चुके हैं जो भी फैसला करेंगे सोच समझ कर ही करेंगे और स्थाई भी होगा l 

अगर ऐसा हुआ तो निश्चय ही हरियाणा की राजनीती में एक बदलाव के संकेत होंगे जिसका सबसे बड़ा नुकसान जेजेपी और उसके कर्ता-धर्ताओं को होगा, ऐसी आशंकाएं प्रदेश के राजनैतिक जानकारों द्वारा जताई जा रही हैं l

x

COVID-19

World
Confirmed: 0Deaths: 0
Close