Breaking Newsक्राइमदुनियाराजनीतीशिक्षाहिमाचल प्रदेश

किस किस तरह की साजिशें रची जाती हैं शिक्षा के मंदिरों में ! छात्र नेता सम्पूर्ण सिंह ने किया उजागर

दो वर्ष से शिक्षा के सौदागरों के जाल में फंसी युवती को मिला न्याय

Spread the love
सम्पूर्ण सिंह, पूर्व छात्र नेता एवं प्रमुख समाज सेवी

शिक्षा के नाम पर हो रही लूट की खुली पोल
हरियाणा के चर्चित छात्र नेता सम्पूर्ण सिंह के माध्यम से युवती को मिला न्याय
चरखी दादरी : दो वर्ष लगातार मानसिक प्रताडऩा व पुलिस थानों के चक्कर काटने वाली जिले की एक बेटी को आखिरकार न केवल न्याय मिल ही गया बल्कि साथ ही हजारों बेरोजगार युवाओं को धोखा देकर उन्हेंं डिग्रीयों के नाम पर धोखा देने वाली यूनिवर्सिटी की भी पोल खुल गई है। पुलिस ने न केवल फर्जी डिग्रीयों का गौरखधंधा करने वाले विश्वविद्यालय को सील कर दिया है बल्कि इसके संचालकों के खिलाफ भी धोखाधड़ी के मामले दर्ज कर लिये हैं।

मानसिक व शारीरिक प्रताडऩा झेल रही चरखी दादरी जिले के गांव पिचोपा खुर्द की बेटी ममता के लिए चार दशक से प्रदेश की छात्र राजनीति में अग्रणी रहे हरियाणा के चर्चित छात्र नेता सम्पूर्ण सिंह के प्रयास काफ़ी अहम साबित हुए हैं। युवती के हौंसले व सम्पूर्ण सिंह के साथ ने न केवल शिक्षा के नाम पर बड़ी दुकान चलाने वालों को बेनकाब किया बल्कि लाखों युवाओं को धोखे से भी बचाया है।
आज यहां ममता व उनके पति दादरी निवासी जितेंद्र सिंह, जीतू ने बताया कि उसने वर्ष 2009 मेें बीए के उपरांत एमए में दाखिले हेतु हरियाणा के कई कॉलेजों में प्रयास किया, लेकिन बात नहीं बनी। इसी दौरान ममता ने प्रचार माध्यम पर मानव भारती निजी विश्वविद्यालय के दाखिला सम्बंधी विज्ञापन देखे और विज्ञापन में दिए गए चेयरमैन व एक अन्य महिला के नम्बर पर सम्पर्क किया। उन्होंने युवती को विश्वविद्यालय के करनाल स्थित एक स्टेडी सैंटर में बुलाया और 50 हजार रूपए फीस लेकर एमए मनोविज्ञान में दाखिला दे दिया। उसने बताया गया कि 12 हजार रूपए की तो रसीद दे दी जाएगी लेकिन 38 हजार रूपए नॉन अटेंडिंग के कटेंगे। उसे यह भी बताया गया कि अभी विश्वविद्यालय का भवन सोलन जिले में निर्माणाधीन है।
वर्ष 2011 में युवती को एमए मनोविज्ञान उतीर्ण करने की डिग्री दे दी गई। युवती ने बताया कि 2012 में उसने विश्वविद्यालय के बताए गए पते पर 250 रूपए का ड्राफ्ट भेजा और अपनी डिग्री वैरीफिकेशन मांगी। विश्वविद्यालय द्वारा अपने नम्बर आरटीआई/033 दिनांक 4-6-2012 के तहत इसे वैरीफाई भी कर दिया गया। ममता ने बताया कि इसी दौरान हरियाणा में लोक सेवा आयोग ने रोजगार अधिकारी के पदों का विज्ञापन निकाला। इस पद के लिए एमए मनोविज्ञान को प्राथमिकता दी गई थी। 2014 में युवती का सहायक रोजगार अधिकारी पर चयन भी हो गया।
चार वर्ष तक तो सबकुछ ठीकठाक चला और विभाग द्वारा उसकी डिग्री की भी जांच करवाई गई जिसे मानव भारती विश्वविद्यालय ने सही बताया और विभाग को एमबीयू/जीईएन-2016/वीईआर-2584 दिनांक 6 सितम्बर 2016 के तहत पत्र लिखकर डिग्री को सत्यापित किया गया। यही नहीं हिमाचल प्रदेश के निजी शिक्षण संस्थान विनियामक आयोग ने भी गोपनीय पत्र लिखकर इस डिग्री की जांच करवाई जिसे एक बार फिर से विश्वविद्यालय ने सत्यापित किया। बावजूद इसके युवती के खिलाफ उसके अपनों का षडयंत्र बंद नहीं हुआ।
वर्ष 2018 में युवती के अनुसार उसके खुदके नंददोई के भाई ने एक घरेलू झगड़े में उसे डराना धमकाना शुरू कर दिया और मानव भारती विश्वविद्यालय से सांठ गांठ करके 22 छात्रों की डिग्रीयां बोगस होने का एक पत्र जारी करवा दिया। यह पत्र हिमाचल के धर्मपुर थाने में और हरियाणा में रोजगार विभाग को भेज दिया गया। विश्वविद्यालय यहीं चूक कर गया कि उस द्वारा दो बार पहले ममता की डिग्री को सत्यापित किया जा चुका है। यहां हिमाचल पुलिस की भूमिका भी संदेह में आ गई क्योंकि पुलिस द्वारा 22 में से केवल एक ही छात्रा के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई।
ताजा शिकायत पर हरियाणा रोजगार विभाग ने भी ममता के खिलाफ पंचकुला के एक थाने में रिपोर्ट दर्ज करवा दी। हरियाणा पुलिस के कुछ ईमानदार अधिकारियों द्वारा इस मामले में करवाई जांच में पता चला कि विश्वविद्यालय में किसी बाहरी के दबाव में ममता की डिग्री को अवैध ठहराया है। हरियाणा पुलिस ने ममता के खिलाफ दर्ज एफआईआर को भी रदद करने की सिफारिश कर दी है।
इस बीच ममता पर हिमाचल पुलिस का दबाव भी बढ़ रहा था इसी दौरान वह भिवानी के चर्चित छात्र नेता सम्पूर्ण सिंह के सम्पर्क में आई। सम्पूर्ण सिंह ममता व उसके परिजनों को लेकर हिमाचल के शिमला स्थित पुलिस महानिदेशक एसआर मरड़ी के यहां पहुंचे। महानिदेशक ने ममता की सारी बात ध्यान से सुनी और उसी वक्त एक एसआईटी का गठन किया। इस एसआईटी ने रातोंरात विश्वविद्यालय में छापामार दिया।
छापामारी के दौरान पुलिस को विश्वविद्यालय में लगभग 10 हजार खाली डिग्रीयां व बिना जांची हुई उत्तर पुस्तिकाएं मिली। मजेदार बात तो यह है कि जिन छात्रों की उत्तर पुस्तिकाएं जांची ही नहीं गई थी उन्हें भी डिग्रीयां प्रदान की जा चुकी थी। मामले की गम्भीरता को भांपते हुए पुलिस ने न केवल विश्वविद्यालय को सील कर दिया बल्कि इसके संचालक व रजिस्ट्रार के खिलाफ भी धोखाधड़ी के मामले दर्ज कर लिये हैं। सोलन पुलिस ने सभी आरोपियों के खिलाफ एफआईआर नम्बर 0022 दिनांक 3-3-2020 के तहत मामले दर्ज किये हैं। पुलिस ने विश्वविद्यालय की रजिस्ट्रार को भी हिरासत में ले लिया है।
पुलिस ने राजस्थान के माउटाबू स्थित एक निजी विश्वविद्यालय से भी मानव भारती विश्वविद्यालय की लगभग 1376 खाली डिग्रीया, 50 माईगे्रशन सर्टिफिकेट तथा खाली लेटर पेड के अलावा कई अन्य कागजात बरामद किये हैं।
ममता की शिकायत पर पुलिस ने विश्वविद्यालय के आधा दर्जन अन्य लोगोंं के खिलाफ भी मामले दर्ज किये हैं। इस जांच के दौरान पुलिस ने ममता की डिग्री का मूल रिकार्ड भी हासिल करके उसके खिलाफ बनाया गया झूठा मामला भी वापिस ले लिया है।

Close