Breaking Newsक्राइमराजनीतीस्थानीय खबरेंहरियाणा

कोरोना वायरस:  उपचार से बेहतर है रोकथाम  : राहुल हुड्डा     

Spread the love
  स्वास्थ्य विभाग की टीम ने मेडिकल स्टोरर्स पर चलाया चैकिंग अभियान                                     
 अनियमितता मिलने पर ड्रग्स एंड कॉस्मेटिक एक्ट के तहत मेडिकल स्टोर सील                                       
ड्रग्स की कालाबाजारी रोकने के लिए चैकिंग अभियान जारी रहेगा– बोले  एडीसी राहुल हुड्डा     
रेवाड़ी में कीमत से अधिक रुपए में मास्क व सेनेटाइजर बेचने वाले मेडिकल स्टोर को रेवाड़ी स्वास्थ्य विभाग ने सील किया है रेवाड़ी के बावल चौक स्थित शुभम मेडिकोज नाम का यह वही स्टोर है जहां   कीमत से ज्यादा रुपए लेकर मास्क बेचे जा रहे थे हालांकि दुकानदार ने इन आरोपों को निराधार बताया है बता दें कि इन दिनों पूरी दुनिया में कोरोना वायरस को लेकर हाहाकार मचा है और सैनिटाइजर और मास्क की कमी भी मार्केट में देखी जा रही है और इसी कमी का फायदा उठाते हुए कुछ लालची लोग सैनिटाइजर और मास्क कीमत से ज्यादा राशि में बेच रहे हैं जिस पर आज स्वास्थ विभाग ने कार्रवाई करते हुए इस मेडिकल स्टोर को सील किया है
रेवाड़ी,15 मार्च। कोरोना वायरस की रोकथाम को लेकर प्रशासन निरन्तर प्रयासरत है। राष्ट्रीय आपदा घोषित होने के बाद जिला प्रशासन ने कोरोना की रोकथाम के लिए सभी संभव प्रयास  मिशन मोड में शुरू कर दिए हैं। रविवार को स्वास्थ्य विभाग की टीम ने जिला में कार्यरत मेडिकल स्टोर की चैकिंग शुरू कर दी है, ताकि ड्रग्स, मास्क औऱ सैनिटाइजर आदि की कालाबाजारी करने वालों के विरुद्ध ड्रग्स एंड कॉस्मेटिक एक्ट के अतिरिक्त आवश्यक वस्तु अधिनियम के तहत तत्परता से कानूनन कार्यवाही अमल में लाई जा सके।  रविवार को स्वास्थ्य विभाग की टीम ने एक मेडिकल स्टोर को सैनिटाइजर, मास्क आदि सामान को बिना बिल के स्टोर में रखने और बिक्री की  अनियमितता मिलने  पर सील कर दिया और स्टोर संचालक को ड्रग्स एंड कॉस्मेटिक एक्ट के तहत नोटिस दिया है।    एडीसी ने कहा कि इस तरह चैकिंग अभियान निरन्तर जारी रखने के निर्देश दिए गए हैं।  टीम में डिप्टी सिविल सर्जन डॉ विजय प्रकाश नोडल अधिकारी , जिला ड्रग्स कंट्रोलर अमनदीप सहित अन्य अधिकारी शामिल रहे।
   डरें नहीं – सचेत रहें                           
  राहुल हुड्डा ने कहा कि जिला रेवाड़ी में नॉवेल कोरोना वायरस से अभी तक कोई भी संभावित पीड़ित नही है, इसलिए किसी भी नागरिक को घबराने की जरूरत नहीं है , केवल सावधानी की जरुरत है। यह संक्रमित बीमारी है,  इसलिए बचाव में ही सुरक्षा है।              एडीसी ने कहा कि किसी प्रकार की अफवाह पर ध्यान न दें, अफवाह फैलाने वाले कि सूचना प्रशासन को दें। कोरोना वायरस की रोकथाम को लेकर कोई भी जानकारी लेने के लिए स्वास्थ्य की विभाग द्वारा जारी हेल्पलाइन नंबर से लें। खांसी, जुकाम, बुखार आदि होने पर सरकारी अस्पताल में टेस्ट करवाएं। इसके लिए निशुल्क व्यवस्था की गई है।     हैल्प लाईन नंबरो से लें सही जानकारी
एडीसी हुड्डा ने कहा कि कोरोना वायरस से बचाव के लिए हैल्पलाइन नंबर जारी किए है। जिला नागरिक अस्पताल रेवाड़ी के लिए हैल्प लाईन नंबर 01274-250764 व डीप्टी सीएमओ एवं जिला नोडल अधिकारी के मोबाइल नंबर 9416349426 और कोसली उपमंडल नागरिक अस्पताल के लिए 01259-275105 टेलीफोन नबंर पर चौबीस घंटे कोरोना से संबंधित जानकारी व सेवाएं उपलब्ध है।
  अतिरिक्त उपायुक्त ने कहा कि यह संक्रमित रोग है और तेजी से फैलता है। इसलिए भीड़भाड़ वाले क्षेत्र, जैसे सिनेमा हॉल, कैफे हाउस, रेस्ट्रारेंट, बैंकट हॉल, शापिंग मॉल, क्लब आदि में जाने से बचें। उन्होंने कहा कि यात्रा भी जरूरी होने पर ही करें। खांसी -जुकाम व बुखार पीडि़त व्यक्ति के नजदीक न जाएं।             —–  सामान्य जन को मास्क की जरूरत नहीं                                                     डिप्टी सिविल सर्जन एवं नोडल अधिकारी डॉ विजय प्रकाश ने बताया कि रोगियों का ईलाज करने वाले डॉक्टरों व पैरामेडिकल स्टाफ को एन-95 मास्क,संक्रमण पीड़ित को ट्रिपल लेयर सर्जिकल मास्क तथा  खांसी , जुकाम आदि से पीड़ित को डबल लेयर सर्जिकल मास्क पहनने की जरूरत है। बाकी स्वस्थ व्यक्ति को मास्क पहनने की आवश्यकता नहीं है। इसलिए मास्क के बारे में चिंता न करें। मेडिकल एडवायजरी का अनुकरण करें          क्या करें-
  लक्षण प्रतीत होने पर नागरिक अस्पताल रेवाड़ी में नोडल अधिकारी या स्क्रीनिंग कक्ष में सम्पर्क कर अपनी जांच कराएं। अपने घर में एकांत में रहे, बाहर ना घूमें, आराम करें। संतुलित आहार व पर्याप्त पानी पीएं। छींकते या सांखते समय अपने नाक, मुंह पर रूमाल रखकर या कोहनी से ढककर छींके या खांसे।  डबल या ट्रिपल लेयर सर्जिकल  मास्क का प्रयोग करें। व्यक्तिगत स्वच्छता पर ध्यान दें, हाथ गंदे होने पर बहते पानी व साबुन से हाथ धोएं। खांसते समय प्रयोग किए गए टिशु पेपर को किसी बंद डिब्बे में फैंके।
क्या न करें-
  घबराए नहीं।
खांसते व छींकते समय हाथों का प्रयोग न करें। बार-बार अपने मुंह, आंखों व नाक को ना छुएं। स्वयं अपना उपचार न करें, अमान्य डॉक्टरों से बचें। वायरस के लक्षण प्रतीत होने पर कि सी अन्य व्यक्ति के संपर्क में न आएं। सावर्जनिक स्थानों पर न थूकें। कच्चे व अधपके मांस के सेवन से बचे.

Close