क्राइमराजनीतीस्थानीय खबरें

गांव मिताथल की पंचायत ने शराब के ठेके को लेकर दिया तीन दिन का अल्टीमेटम

Spread the love
  • गांव में यदि शराब का ठेका खोला गया तो होगा धरना -प्रदर्शन-ग्रामीण
  • गांव के स्कूल व अन्य सार्वजनिक स्थानों पर नग्न पड़े रहते हैं शराबी-सिवाच
  • शराब के सेवन में गांव के युवाओ की संख्या बढ़ रही है
  • जो युवा सेना में जाना चाहिए वे जा रहे हैं शराब के ठेके पर

भिवानी l  जिले के गांव मिताथल की पंचायत आज भिवानी के लघु सचिवालय पहुंची और गांव में शराब के ठेके के विरोध को लेकर तहसीलदार मोहनलाल को जिला उपायुक्त के नाम ज्ञापन दिया। इस अवसर पर गांव के सरपंच प्रतिनिधि भीष्म सिवाच,कृष्ण कुमार ,विजेंद्र पहलवान ,चतर सिंह ,सुरेश मोटू, लीलू मेंबर ,सुरेश कुमार सहित अनेक ग्रामीणों ने जिला प्रशासन व सरकार से मांग की है कि उन्होंने अपने गांव से शराब का ठेका हटवाने के लिए कई बार जिला प्रशासन व सरकार के समक्ष गुहार लगाई है और अब तो सरकार ने ग्राम सभा से प्रस्ताव मांगे थे ,ग्राम सभा के मुताबिक उन्होंने अपना प्रस्ताव पास कर जिला प्रशासन के अधिकारियों के समक्ष से रखा था,जिला प्रशासन ने गांव मिताथल में शराब का ठेका न खोलने का आश्वासन दिया था। लेकिन अब कुछ मिलीभगत के अनुसार गांव में शराब का ठेका खोलने की बात सामने आई है।

सरपंच प्रतिनिधि ने कहा कि शराबबंदी को लेकर रेगुलेशन जो पास किया था,उसके बावजूद शराब का ठेका खोलने की बातें सामने आ रही हैं यह गलत है।जब गांव की पंचायत व ग्रामीण गांव में शराब का ठेका नही खुलवाना चाहते तो फिर गांव में तानाशाही से ठेका क्यों खोला जा रहा है।जिसके चलते आज उन्होंने तहसीलदार को जिला उपायुक्त  व हरियाणा सरकार के नाम ज्ञापन भेजा है ताकि उनके गांव में शराब का ठेका ना खुले ।ग्रामीणों ने आक्रोश जताते हुए कहा कि यदि गांव में इस बार शराब का ठेका खोला गया तो गांव में जबरदस्त विरोध होगा ,धरने प्रदर्शन किए जाएंगे। इसलिए समय रहते हुए जिला प्रशासन व सरकार इस मामले में संज्ञान ले और गांव में शराब का ठेका न खोला जाए। उन्होंने कहा कि गांव में शराब का ठेका खुलने से गांव के युवा इस बुराई में जकड़ते जा रहे हैं । पीछे वर्ष भी जहां शराब का ठेका खोला गया है वहां पर गांव का स्कूल व बस स्टैंड बिल्कुल नजदीक है,जिसके चलते शराबी नग्न अवस्था में यहां स्कूल के सामने व सड़कों पर नशे में पड़े रहते हैं और गाली गलौज करते रहते हैं। कहा कि यहां से बहन बेटियों का आवागमन रहता है ,इसलिए ग्राम पंचायत में गांव के लोगों की सहमति से ग्राम सभा में प्रस्ताव पारित किया है कि उनके गांव में शराब का ठेका ने खोला जाए,यदि शराब का ठेका खोला जाता है तो गांव का आक्रोश जिला प्रशासन व सरकार को झेलना पड़ेगा।इस जिला प्रशासन इस मामले में तीन दिन में अपना स्पस्टीकरण गांव की पंचायत को दे ताकि ग्रामीणों को शांत किया जा सके। इस अवसर पर

यह भी पढ़े   गाजियाबाद के लोनी में दो युवकों की गोली मारकर हत्या, गाड़ी में मिली लाश

सैंकड़ों ग्रामीण भिवानी में जिला उपायुक्त से मिलने पहुंचे लेकिन जिला प्रशासन के आला अधिकारी सीएम की रैली को लेकर कैरू गए हुए थे,इसलिए उन्होंने भिवानी तहसीलदार मोहनलाल को ज्ञापन दिया है।

Close