Breaking Newsराजनीतीहरियाणा

श्री घंटेस्वर महादेव मंदिर लोगों की आस्था का केंद्र बना

Spread the love

रेवाड़ी शहर के ऐतिहासिक मोती चौक पर बीचों बीच बना श्री घंटेस्वर महादेव मंदिर लोगों की आस्था का केंद्र है. प्राचीन काल में इसमे बड़ी संख्या में घंटे लगे हुए थे इसलिए इसका नाम घंटेस्वर महादेव मंदिर पड़ा. वैसे तो रेवाड़ी में एक दर्जन से अधिक छोटे-बड़े मंदिर है लेकिन चार सौ साल पुराने इस सिद्ध मंदिर की अपनी ही मान्यताएं हैं. जानकर बताते हैं कि सैकड़ों वर्ष पूर्व इस मंदिर के पास बावड़ी, कुआ और श्मशान घाट हुआ करते थे उस समय यह मंदिर काफी छोटा और निचाई पर था. फिर शहर के लोगों ने सन 1967 में इस मंदिर का पुनः निर्माण शुरू कराया और मंदिर के निर्माण के लिए किसी से चंदा नहीं माँगा गया अपनी स्वेच्छा से ही लोगों ने दान दिया इतना ही नहीं स्थानीय लोगों ने इसके निर्माण में अपना श्रम दान भी किया. आज यह मंदिर न केवल रेवाड़ी के लिए ब्लकि दूर दूर से आये श्रद्धालुओं के लिए भी आस्था का केंद्र बना हुआ है. यहां मकर संक्रांति पर भंडारा लगाया जाता है. महाशिवरात्रि और श्री कृष्ण जन्माष्टमी पर झूमर लाइटों आदि से भव्य रूप से सजावट की जाती है. सुंदर सुंदर झांकियां निकाली जाती है. मेले का आयोजन किया जाता है. शारदीय नवरात्रों पर रामलीला होती है मंदिर में सुबह शाम गरीब और जरूरतमंद लोगों को भोजन करवाया जाता है. शिव मंदिर होने के चलते हर सोमवार को भगवान शिव की विशेष पूजा अर्चना की जाती है प्रत्येक शाम को आरती होती है. व्यापारी वर्ग सुबह काम पर जाते और शाम को आते वक़्त मंदिर में मत्था टेकते है कुल मिलाकर लोगों की मंदिर के प्रति भारी आस्था है और सच्चे मन से मंदिर आने वाले भक्तों की सभी मनोकामनाएं पूर्ण होती है. श्री घंटे स्वर महादेव मंदिर में दर्शनों के लिए लोग दूर दूर से आते हैं.

Close