Breaking Newsदुनियाराजनीती

वाराणसी के लिए रवाना हुआ तेज़ बहादुर trial news

Spread the love

तेज बहादुर के दादा ने दिलाई थी देश को आज़ादी: पिताक्रांतिकारी परिवार से है तेज बहादुर, किसी कीमत पर झुकने वाला नही….माता-पिता और बड़ो का आशीर्वाद लेकर वाराणसी रवाना हुआ जवानरेवाड़ी, 5 अप्रैल।मोदी जी के दम पर सेना में फैले भ्र्ष्टाचार के खिलाफ आवाज उठाई थी। लेकिन भ्र्ष्टाचार को तो ख़त्म नही किया…. मुझे ही रास्ते से हटा दिया गया। तेज बहादुर के दादा जी भी सेना में रहकर अपनी बहादुरी का लोहा मनवा चुके है। और इंदिरा गांधी ने ताम्रपत्र देकर उन्हें सम्मानित भी किया था। एक क्रांतिकारी परिवार से हूँ किसी भी कीमत पर झुकने वालों में से नही हूं। भ्र्ष्टाचार खत्म करने के लिए वाराणसी से मोदी के खिलाफ चुनाव लड़ रहा हूं। आज मैं अपने माता-पिता और बड़ों से आशीर्वाद लेकर जा रहा हूं। ग्रामीणों ने मुझे वंदे मातरम और हिंदुस्तान जिंदाबाद के नारों के साथ रवाना किया है। जिस तरह से आज मुझे ग्रामीणों का सम्मान और आशीर्वाद मिला है। तेज बहादुर की मां निहाल कौर यादव ने कहा कि मोदी ने मेरे बेटे के साथ न्याय नही किया अब जनता न्याय करेगी। मेरे बेटे का कोई कसूर नही था।पूर्व BSF जवान तेज बहादुर के पिता शेर सिंह ने बताया कि जो परिवार की परंपरा थी उसी को आगे बढाया है। देश, जाती और धर्म के लिए है जो हमारे बुजुर्गों ने किया उसे ही आगे बढाते हुए जनता के सामने पेश किया है। उन्होंने कहा कि हमारे बुजुर्ग वो चौथे आदमी थे जिनके अनुसार देश को आज़ादी दिलाई थी। वीर सावरकर, राव बिहारी बोस, सुभाष चंद्र बोस और चौथे ईश्वर सिंह आज़ाद तेज बहादुर के दादाजी थे जिन्होंने आज़ादी दिलाई। मैं उम्मीद करता हूं कि ये की ये बच्चा उन्ही के पद चिन्हों पर चलते हुए भ्र्ष्टाचार को खत्म करेगा। साथ ही देश में फैल रही दूसरी प्रथाओं की भी खत्म करेगा। बाइट–कृष्ण देव यादव, ग्रामीण।बाइट–शेर सिंह यादव, जवान का पिता।बाइट–निहाल कौर यादव, जवान की मां।बाइट–तेज बहादुर, पूर्व BSF जवान।

Close