हरियाणा

प्रधानमंत्री श्रमिक मानधन पेंशन योजना कोई घाटे का सौदा नहीं, थोड़ी अंशदान राशि जमा करवाकर 3 हजार रुपये मासिक पेंशन का उठाएं लाभ – सांसद संजय भाटिया

लघु सचिवालय के सभागार में आयोजित कार्यक्रम में श्रमिकों को वितरित किए पेंशन कार्ड, उपायुक्त विनय प्रताप सिंह व श्रम विभाग के अधिकारी रहे उपस्थित

Spread the love

करनाल 4 दिसम्बर (शिव कुमार)
करनाल के सांसद संजय भाटिया ने कहा कि प्रधानमंत्री श्रमिक मानधन पेंशन योजना कोई घाटे का सौदा नहीं, श्रम विभाग के साथ-साथ अन्य विभागों के अधिकारी इसके प्रचार-प्रसार के लिए जन जागरण अभियान चलाएं, ताकि अधिक से अधिक जरूरतमंद एवं पात्र व्यक्ति योजना का लाभ उठा सकें। सांसद बुधवार को श्रम विभाग की ओर से लघु सचिवालय के सभागार में प्रधानमंत्री श्रम योगी मानधन पेंशन योजना तथा लघु व्यापारी एवं स्वरोजगारियों के लिए नैशनल पैंशन स्कीम के तहत मनाए जा रहे जागरूकता सप्ताह (30 नवंबर से 6 दिसम्बर, 2019) को लेकर आयोजित कार्यक्रम में बोल रहे थे। उपायुक्त विनय प्रताप सिंह के अतिरिक्त अन्य विभागों के अधिकारी भी इस अवसर पर मौजूद थे। सांसद ने कहा कि प्रदेश के करीब अढ़ाई करोड़ आबादी में से कम से कम आधे लोग इस योजना से जुड़ सकते हैं और इसका कोई नुकसान नहीं है, फायदा ही फायदा है। योजना की शर्तों अनुसार जो व्यक्ति 18 से 40 वर्ष की आयु तक हर महीने निर्धारित राशि को पैंशन स्कीम में जमा करवाएगा, 60 वर्ष की आयु होने पर उसे हर मास 3 हजार रूपये मासिक पेंशन के रूप में प्राप्त होंगे। उन्होंने स्पष्ट किया कि इस योजना से लाभ प्राप्त करने वाले व्यक्ति अथवा लाभार्थी सरकार की दूसरी योजनाओं जैसे बुढ़ापा पैंशन, विधवा पैंशन जैसी योजनाओं का लाभ भी ले सकता है। यही नहीं यदि लाभार्थी की किसी कारण से मृत्यु हो जाए, तो वह अपना जमा की गई शेयर राशि ब्याज सहित वापिस ले सकता है। पैंशन की विशेषताओं का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि यह योजना प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की ओर से बीती फरवरी में पूरे देश में लागू की गई थी। इसके पीछे उनकी सोच थी कि गरीब व्यक्ति का भला होना चाहिए, क्योंकि उन्होंने स्वयं भी गरीबी देखी है। श्रमिक मानधन पेंशन योजना के साथ-साथ प्रधानमंत्री ने गरीब लोगों के लिए और भी बहुत सी योजनाएं चलाई हैं, जिनका जरूरतमंद लोग फायदा उठा रहे हैं। उन्होंने आंकड़े प्रस्तुत करते हुए बताया कि इस योजना के तहत देश में 38 लाख 51 हजार 399 श्रमिक रजिस्ट्रेशन करवा चुके हैं, जिनमें हरियाणा पहले स्थान पर है और इस प्रदेश से अब तक 6 लाख 16 हजार 156 श्रमिक योजना से जुड़ चुके हैं। करनाल जिला से 35 हजार 305 श्रमिक रजिस्टर्ड हो चुके हैं। इस आधार पर हिसार व जींद के बाद करनाल प्रदेश में तीसरे स्थान पर है। सांसद ने इस अवसर पर जिला के करीब डेढ दर्जन लाभार्थियों को इस योजना के पैंशन कार्ड भी वितरित किए। कार्यक्रम में सहायक श्रम अधिकारी नरेन्द्र कुमारी ने बताया कि योजना की जानकारी के लिए व्यक्ति श्रम विभाग के कार्यालय के साथ-साथ भारतीय जीवन बीमा निगम के ऑफिस, ई.पी.एफ., ई.एस.आई. तथा अटल सेवा केन्द्र में जाकर जानकारी ले सकता है और अटल सेवा केन्द्र या कॉमन सर्विस सेंटर में जाकर अपना रजिस्ट्रेशन करवा सकता है। इसके लिए पात्र व्यक्ति को अपने साथ आधार नम्बर, पैन नम्बर तथा बैंक खाता नम्बर ले जाना होगा।

Close