हरियाणा

दो दिवसीय दिव्यांग खेलकूद एवं सांस्कृतिक प्रतियोगिता का सांस्कृतिक गतिविधियों के साथ हुई सम्पन्न

Spread the love

करनाल 04 दिसम्बर (शिव कुमार)
अतिरिक्त उपायुक्त अनीश यादव के मार्गदर्शन में चली दो दिवसीय दिव्यांग खेलकूद एवं सांस्कृतिक प्रतियोगिता का सांस्कृतिक गतिविधियों के साथ सम्पन्न हो गया। समापन अवसर पर दिव्यांग बच्चों ने एकल गायन, समुह गायन, एकल नृत्य और समुह नृत्य में उत्साह के साथ भाग लिया। इस अवसर पर समग्र शिक्षा की जिला परियोजना संंयोजक सपना जैन ने कहा कि प्रतिभा धर्म, जाति, ऊंच-नीच, निर्धन और धनवान के बंधनों से परे है। प्रकृति और वातावरण प्रतिभाएं निर्मित करते हैं। उन्होंने कहा कि जिन लोगों को मौका मिल जाता है वो प्रतिभा का प्रदर्शन करके समाज में पहचान बना लेते हैं परन्तु अवसरों के अभाव में न जाने कितनी प्रतिभाएं अंधेरे में छूपी रह कर दम तोड़ जाती हैं। उन्होंने कहा कि सामान्य व दिव्यांग लोगों में सामाजिक स्तर पर ज्यादा अंतर नहीं होता। दिव्यांग जन व्यवहार में जैसे होते हैं वैसे ही अंदर से होते हैं। उनके व्यवहार में कोई बनावटीपन नहीं होता। दिव्यांग बच्चे भेदभाव नहीं करते बल्कि भेदभाव का शिकार होते हैं। उन्होंने कहा कि सांस्कृतिक गतिविधियों में शामिल बच्चों को प्रतिभा को देखकर नहीं लगता कि उनमें सीखने की कोई बाधा है। उन्होंने विशेष शिक्षकों से कहा कि दिव्यांग बच्चों के दैनिक कौशलों के प्रति संवेदनशीलता के साथ उनके अभिभावकों व अध्यापकों के साथ बातचीत हो ताकि वे सामान्य बच्चों की तरह समाज में समायोजन कर सके। सहायक जिला परियोजना संयोजक अन्जु कौडा ने बताया कि सांस्कृतिक प्रतियोगिता सोलो साँग दृष्टिबाधित 9 से12 में यश्वनी इन्द्री प्रथम, देवेन्द्र जुंडला दूसरे, सुमन कुमार घरौंडा तीसरे स्थान पर रहे। लड़कियों दृष्टिबाधित 9से12 कक्षा में प्रिति डाचर प्रथम, नेहा कैमला दूसरे तथा कविता रानी खेडी नरु ने तीसरे स्थान पर कब्जा किया। इसी प्रकार मूक बधिर की सोलो साँग कक्षा 9से 12 प्रतियोगिता में सोनिया गंगाटेहडी पोपडा प्रथम, सुमन प्रेमनगर दूसरे व कविता पोपडा तीसरे स्थान पर रही। सोलो डांस में मुस्कान टिकरी पहले, मौसम दूसरे व नेहा कैमला तीसरे स्थान पर रही। कक्षा 6 से 8 की प्रतियोगिता सोलो डांस में निशा चिड़ाओ प्रथम, मुस्कान कुरलन द्वितीय व हरलीन तृतीय स्थान पर रहीं। समूह नृत्य 9 से 12 ग्रुप डांस में सोनिया पहले, स्माईल दूसरे गंगा तीसरे स्थान पर रहीं। प्रतियोगिता को सफल बनाने में मीडिया संयोजक महिन्द्र खेडा, सत्यनारायण मुख्याध्यापक, हरजिन्द्र कौर मुख्याध्यापिका, रशमीत, रविदत्त, मीनू, अमित पंवार, मीना, रूचि, रुपिन्द्र, सुरजीत, मीनाक्षी, पुरुषोत्तम, जगबीर भिरडाना, सुरेश, प्रमोद चहल, निशा, सीमा, नवदीप, मुकेश, शीतल, रेनु व एबीआरसी युगलकिशोर ने योगदान दिया।

Close