Breaking Newsराजनीतीहरियाणा

ना 75 पार ना आरपार, बीजेपी कांग्रेस में टक्कर के आसार

Spread the love

 

हरियाणा में चुनाव प्रचार थम चूका है l सभी पार्टियां अपने अपने दावे जता रही हैं बीजेपी का शुरू से ही दावा रहा है की ” अबकी बार 75 पार ” शुरू शुरू में लग रहा था कि बीजेपी के इस दावे में दम है l लेकिन ज्यूँ ज्यूँ चुनाव की और बढ़ते गए दावा कुछ हल्का होने लगा l बीजेपी के इस दावे की हवा देश की GDP और कृषि विकास दर में आई बड़ी गिरावट से निकलनी शुरू हुई l बता दें कि देश की आर्थिक विकास डॉ 8% से गिर कर 5 % तक आ गई वहीं कृषि विकास डॉ 12 % से 2 % तक खिसक गई l

हालाँकि आम आदमी को इसकी ज्यादा समझ नहीं होती , लेकिन जब चारों और चर्चा का विषय एक ही हो तो आम आदमी भी इस से प्रभावित हुए बैगर नहीं रहता l खासकर जब बात उसी के हित से जुडी हो ! क्यूंकि अर्थ व्यवस्था में गिरावट का असर सबसे ज्यादा आम आदमी पर ही होता है l रोजगार छिनता है तो आम आदमी का ! और कृषि विकास दर तो सीधे तौर पर किसानों और खेती हर मजदूरों को प्रभावित करती है l इस लिए इस मुद्दे ने चुनाव में अपना असर जरूर दिखाया l लोग पहली बार पाकिस्तान और धारा 370 से धार्मिक उन्माद से बहार आ आर्थिक मुद्दों पर बात करते दिखे l  नए मोटर व्हीकल कानून ने 75 पार में पंचर कर दिया l जो हाय तौबा मची और गुस्सा लोगों में फैला तो 75 पार से छेद दिखाई देने लगे l मजबूरन सरकार ने मौखिक आदेश देकर चुनाव तक नए मोटर व्हीकल कानून को टालना पड़ा l लेकिन लोगों के जेहन में चुनाव के बाद होने वाले चालानों को निकल पाना आसान नहीं है l रही सही कसर मुख्यमंत्री मनोहरलाल के गर्दन काटने वाले वाइरल विडिओ ने पूरी कर दी l

आज आप देख रहे हैं कि बीजेपी की हवा अब पसीने नहीं सूखा पा रही l खास कर बीजेपी से चुनाव लड़ने वाले तमाम जाट नेता चुनाव परिणामों से पहले ही घबराये हुए हैं l खुद बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष सुभाष बराला के सामने विकट राजनैतिक परिस्थितियां है l प्रदेश के खजाने के मालिक capt. अभिमन्यु को सन्नी दयोल का सहारा भी शायद ही काम आये l एक और जाट नेता बीरेंदर सिंह की धर्मपत्नी प्रेमलता को दुष्यंत चौटाला से लोहा लेना पड़ रहा है l यहाँ भी सन्नी दयोल का सहारा कितना काम आएगा वक्त ही बताएगा l यानि कि चुनाव परिणाम ही सही तरह तय कर पाएंगे l बीजेपी के तमाम मंत्री चुनाव मैदान में हिचकौले खाते दिख रहे है l महेंद्र गढ़ में  भी  स्थिति पतली ही बताई जा रही है l

बीजेपी ने जिन तीन खिलाडियों को मैदान में गोल करने के लिए उतारा था उन्हें भी पसीने आये हुए है l भीतर घात और बागियों से निपटने में भी बीजेपी को कांग्रेस की तरह ही पसीने छूट रहे हैं l इन सब के बावजूद बीजेपी नेतृत्व अब भी लगातार दावा कर रहा है कि अबकी बार 75 पार तो कुछ तो बात होगी ही जो इतने कॉन्फिडेंस के साथ दावा जताया जा रहा है l

मेरे विचार से इस बार के राजनैतिक हालत 2009 के परिणामों को परिलक्षित कर सकते हैं l उस समय हरियाणा में कांग्रेस की सरकार थी और केंद्र में भी कांग्रेस सरकार थी l इस समय हरियाणा में बीजेपी की सरकार है और केंद्र में भी बीजेपी की सरकार है l हुड्डा को भी पांच साल हुए थे सत्ता संभाले और मुख्यमंत्री मनोहरलाल को भी अभी पांच साल हुए हैं l तब कांग्रेस के मुख्य मंत्री भूपेंद्र हुड्डा 60 से ऊपर सीटें जित कर पूर्ण बहुमत की सरकार बनाने का दावा करते थे अब मुख्यमंत्री मनोहरलाल 75 पार का दावा करते है l उस समय भी निर्दलीयों के दम पर कांग्रेस सरकार बनी थी इस बार बीजेपी इस स्थिति में हो सकती है l यह मेरी व्यक्तिगत राय है l बाकि सब कुछ 21 तारिख के मतदान और चुनाव परिणाम पर ही असली स्थिति स्पष्ट होगी l

Close