Breaking Newsराजनीतीहरियाणा

जेजेपी ओर बसपा का हुआ गठबंधन, जानिए समझौते की तमाम बातें

Spread the love

ब्रेकिंग: हरियाणा विधानसभा चुनाव को लेकर जेजेपी ओर बसपा का हुआ गठबंधन
जेजेपी नेता दुष्यंत चौटाला ने प्रेस कॉन्फ्रेंस की
जेजेपी 50 सीटो पर ओर बसपा 40 सीटो पर लड़ेगी चुनाव
बसपा नेता सतीश मिश्रा ने कहा मायावती जी ने बहुत सोच समझ कर निर्णय लिया है

नई दिल्ली/चंडीगढ़, 11 अगस्त। हरियाणा प्रदेश की राजनीति में एक नया मोड़ आ गया है। आगामी विधानसभा चुनाव जननायक जनता पार्टी (जेजेपी) और बहुजन समाज पार्टी (बीएसपी) मिलकर लड़ेंगी। विधानसभा चुनावों के लिए दोनों दलों के बीच सीटों का बंटवारा भी हो गया है। जेजेपी 50 सीटों पर और बीएसपी 40 सीटों पर चुनाव लड़ेगी। गठबंधन की घोषणा रविवार को नई दिल्ली स्थित कंस्टीट्यूशन क्लब में आयोजित प्रेस कांफ्रेस में वरिष्ठ जेजेपी नेता व पूर्व सांसद दुष्यंत चौटाला और बीएसपी के राष्ट्रीय महासचिव एवं राज्यसभा सांसद सतीश मिश्रा ने की। इस अवसर पर जेजेपी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष अनंतराम तंवर, पार्टी के राष्ट्रीय प्रधान महासचिव डा. केसी बांगड़, बसपा के हरियाणा के प्रभारी डा. मेघराज व पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष प्रकाश भारती मौजूद थे।

पूर्व सांसद दुष्यंत चौटाला ने जेजेपी-बसपा गठबंधन की घोषणा करते हुए कहा कि आगामी विधानसभा चुनाव जेजेपी और बसपा मिलकर लड़ेंगे। यह गठबंधन प्रदेश की राजनीति में नया बदलाव लाएगा और प्रदेश में जेजेपी-बसपा गठबंधन की सरकार बनाएंगे। गठबंधन के बारे में विस्तार से बताते हुए बसपा के राष्ट्रीय प्रधान महासचिव सतीश मिश्रा ने कहा कि गठबंधन को लेकर दोनों दलों के बीच कई दौर की बातचीत हुई। दोनों पार्टियों के शीर्ष नेताओं के गहन मंथन एवं सहमति के बाद बीएसपी सुप्रीमो बहन मायावती व जेजेपी संस्थापक डा. अजय सिंह चौटाला ने गठबंधन को हरी झंडी दी। उन्होंने कहा कि प्रदेश की जनता भाजपा शासन से पूरी तरह त्रस्त है और जेजेपी-बसपा का नया गठबंधन देखना चाहती है। राज्यसभा सांसद सतीश मिश्रा ने कहा कि हाथी चाबी लेकर चलेगा और चंडीगढ़ का ताला खोलेगा।

यह भी पढ़े   दहेज हत्या की घटना में शामिल आरोपी गिरफ्तार

बीएसपी नेता सतीश मिश्रा ने कहा कि कौन सा दल किस सीट पर चुनाव लड़ेगा, इसकी घोषणा जल्द ही की जाएगी। दुष्यंत चौटाला ने कहा कि पूर्व उपप्रधानमंत्री स्व. देवीलाल की जयंती 25 सितंबर को जेजेपी-बीएसपी गठबंधन मिलकर प्रदेश में ऐतिहासिक रैली करेंगे। रैली का स्थान पार्टी के दोनों नेताओं के  विचार विमर्श के बाद तय किया जाएगा। उन्होंने कहा कि भाजपा के शासन में प्रदेश का सामाजिक ताना-बाना बिगड़ गया और अब दोनों दल मिलकर आपसी भाईचारे को मजबूती करते हुए सोहार्द कायम करेंगे।

Close