Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!
Breaking Newsक्राइमहरियाणा

आखिर कौन है घोटालों के आरोपों से सने वन दरोगा के प्रमोशन के पीछे

Spread the love

करोडों के घोटालों की अनदेखी कर वन दरोगा अफजल खान की पदोन्नति का मामला गर्माया

  1. फिरोजपुर झिरका तिगरा ब्लाक के वन दरोगा अफजल खान ने अवैध खनन, अवैध कटाई, अवैध कब्जों से संबंधित अपने समय में 94 चालान किए
  2. चालान न ही पर्यावरण अदालत में भेजे और न ही डीएफओ मेवात को कोई सुचना दी
  3. प्रधान मुख्य वन संरक्षक हरियाणा द्वारा अफजल खान द्वारा काटे गए 94 चालानों की जानकारी मांगी
  4. जिला अधिकारी से लेकर सर्कल के कई अधिकारियों के इस मामले में संलिप्त होने की आशंका

हरियाणा में बीजेपी की मनोहरलाल सरकार की ईमानदारी पर एक भृष्टाचारी वन दरोगा भारी पड़ रहा है l ईमानदार छवि के धनी मुख्य्मंत्री की तमाम ईमानदार कोशिशों को भृष्टाचार में आकंठ डूबे आला अफसर किसी भी सूरत में सिरे चढ़ने देंगे इसमें संदेह बना हुआ है l इसका जीता जगता प्रमाण ये है कि करोडों के घोटाले के आरोपी वन दरोगा को निलंबित व् बर्खास्त करने के बजाय पदोन्नति कर सम्मानित किया जा रहा है l ये हम नहीं कह रहे वरन इस मामले से जुड़े तमाम दस्तावेज चिल्ला-चिल्ला कर कह रहे हैं कि वन दरोगा ने जो भृष्टाचार किया उसको विभाग ने नोटिस दिया, लेकिन दरोगा का बिना किसी जाँच पड़ताल के प्रमोशन कर दिया गया l तकलीफदेह बात है कि वन विभाग के आला अधियकारियों को वन दरोगा की काली करतूतों कि जानकारी होने के बावजूद यह सब हुआ !

 

मामला कुछ इस प्रकार है कि फिरोजपुर झिरका तिगरा ब्लाक के वन दरोगा अफजल खान ने अवैध खनन, अवैध कटाई, अवैध कब्जों से संबंधित अपने समय में 94 चालान किए थे। अफजल खान वन दरोगा द्वारा 94 चालान न ही पर्यावरण अदालत में भेजे और न ही डीएफओ मेवात को कोई सुचना दी l
आरोप हैं कि इन चालान का निपटारा बिना विभाग कि जानकारी के वन दरोगा ने आला अफसरों के साथ मिलीभगत से कर लिया l आरोप हैं कि करोडों के चालान की राशि से अपनी व् अपने सीनियर अफसरों की जेबें भर ली । जिस से अवैध खनन करने वालों ने करोड़ों के वारे न्यारे किये व सरकारी खजाने को करोड़ों रूपये का नुकसान हुआ l लेकिन पर्यावरण को कितना नुकसान हुआ होगा इसका अंदाज़ा लगाना बहुत मुश्किल है l

फिरोजपुर झिरका रेंज आफिसर रमेश कुमार मलिक ने इस 94 चालानों का पत्र क. न. 25 दिनांक 10/4 /2019 काे डीएफओ मेवात को भेजा with several reminder
अतिरिक्त मुख्य वन संरक्षक द्वारा वन दरोगा अफजल खान के प्रमोशन के आदेश जारी कर दिए गए

बता दें कि वन दरोगा अफ़ज़ल खान के इस गौरख धंधे को लेकर विभाग के अफसरों को पूरी जानकारी भी रही l फिरोजपुर झिरका रेंज आफिसर रमेश कुमार मलिक ने इस 94 चालानों का पत्र क. न. 25 दिनांक 10/4 /2019 काे डीएफओ मेवात को भेजा था। परंतु उसका कोई जवाब नहीं आया। उसके बाद उन्होंने कई बार रिमाइंडर भी भेजा। रिमाइंड भेजे जाने के बाद भी डीएफओ मेवात ने इस भ्रष्टाचार मामले को दबाकर रखा तथा इस मामले में चीफ कंजरवेटर गुडगांव को भी कोई जानकारी नहीं दी l इस सरे घटना कर्म से जाहिर होता है कि डीएफओ मेवात और वन दरोगा अफ़ज़ल खान में मिलीभगत तय है l

फिरोजपुर झिरका रेंज आफिसर रमेश कुमार मलिक ने इस 94 चालानों का पत्र क. न. 25 दिनांक 10/4 /2019 काे डीएफओ मेवात को भेजा पत्र

मामला इतना आसान भी नहीं है ! और भी कड़ियाँ हैं जो इस भृष्टाचार को सरंक्षण दे रही हैं l वन दरोगा अफ़ज़ल खान को भृष्टाचार के आरोपों के बावजूद प्रमोशन दिए जाने को लेकर प्रधान मुख्य वन संरक्षक हरियाणा पंचकूला से जानकारी मांगी गई तो मालूम हुआ कि प्रधान मुख्य वन संरक्षक हरियाणा द्वारा एक पत्र क. न. ई 2/701 दिनांक 28/6/2019 वन संरक्षक दक्षिण परिमंडल गुरुग्राम को लिखा गया जिसमें अफजल खान के फिरोजपुर झिरका तिगरा ब्लाक पर ड्यूटी के दौरान काटे गए 94 चालानों की जानकारी मांगी। इस पत्र का विषय ” वन दरोगा अफजल खान द्वारा क्षति रिपोर्टों पर कार्रवाई न करने बारे” था l लेकिन चीफ कंजरवेटर गुडगांव ने कोई जवाब अभी तक दिया। हाँ, वन दरोगा प्रमोशन का आदेश जरूर जारी हो गया l इस से साफ हो गया कि जिला अधिकारी से लेकर सर्कल के कई अधिकारियों के इस मामले में संलिप्त होने की आशंका को नकारा नहीं जा सकता।

मुख्य वन संरक्षक हरियाणा पंचकूला से जानकारी मांगी गई तो मालूम हुआ कि प्रधान मुख्य वन संरक्षक हरियाणा द्वारा एक पत्र क. न. ई 2/701 दिनांक 28/6/2019 वन संरक्षक दक्षिण परिमंडल गुरुग्राम को लिखा गया जिसमें अफजल खान के फिरोजपुर झिरका तिगरा ब्लाक पर ड्यूटी के दौरान काटे गए 94 चालानों की जानकारी मांगी।

मुख्य वन संरक्षक हरियाणा अनिल हुड्डा से मोबाइल पर सम्पर्क किया तो श्री हुड्डा ने कहा कि वन दरोगा अफजल खान के खिलाफ जांच की जा रही है l उनका प्रमोशन कैसे हुआ ये मैं अभी देखूंगा l गौरतलब है कि मुख्य वन संरक्षक हरियाणा अनिल हुड्डा द्वारा वन दरोगा अफजल खान के 94 चालानों को लेकर वन संरक्षक दक्षिण परिमंडल गुरुग्राम से जानकारी मांगी गई थी, और जाँच शुरू की गई थी l जाँच किसी नतीजे पर पहुँचती इस से पूर्व अतिरिक्त मुख्य वन संरक्षक द्वारा वन दरोगा अफजल खान के प्रमोशन के आदेश जारी कर दिए गए l

 

अब देखना ये है कि वन विभाग या हरियाणा सरकार वन दरोगा अफजल खान के फिरोजपुर झिरका तिगरा ब्लाक पर ड्यूटी के दौरान काटे गए 94 चालानों पर क्या रुख अपनाती है l निष्पक्ष जांच हुई तो दूध का दूध पानी का पानी हो सकता है l बेईमानी तो साफ साफ खीसे निपोर रही और कह रही है “ठेंगे पर जीरो टॉलरेंस”

Close