Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!
हरियाणा

मल्टी आर्ट कल्चरल सेंटर में मनीष जोशी के निर्देशन में तैयार नाटक ने समझाया सिक्ख धर्म का महत्व ।

Spread the love

Onlinebhaskar Report by

SHIV CHARAN / SANJEEV RANA’S

नाटक सतनाम वाहेगुरु ने दिखाई गुरुनानक देव जी की जीवनगाथा
————-
नाटक के माध्यम से दिखाई गुरुनानक की शिक्षा, कलाकारों ने बटौरी वाहवाही
————-
कुरूक्षेत्र ।   हरियाणा कला परिषद् मल्टी आर्ट कल्चरल सेंटर में आयोजित होने वाली साप्ताहिक संध्या में नाटक सतनाम वाहेगुरु का मंचन किया गया। बिस्मिल्लाह खां अवार्ड से पुरस्कृत मनीष जोशी के निर्देशन में तैयार नाटक में अभिनय रंगमंच हिसार के कलाकारों ने अपनी प्रस्तुति दी। इस मौके पर राष्टीय सिक्ख संगत के प्रांत महामंत्री डा. कुलदीप सिंह बतौर मुख्यअतिथि उपस्थित रहे। वहीं कार्यक्रम की अध्यक्षता कैप्टन परमजीत सिंह ने की। मंच का संचालन विकास शर्मा द्वारा किया गया। नाटक से पूर्व रजनी गाबा ने शबद सुनाकर सभी दर्शकों को गुरुगाथा के बारे में जानकारी दी। वहीं नागेंद्र शर्मा ने सभी अतिथियों का स्वागत किया।

नाटक में पांच सूफी लोग दास्तां ए संत सुनाते हैं। जिसमें गुरुनानक देव की शिक्षाओं व यात्राओं का विस्तृत विवरण देते हैं। किस्सा शैली में तैयार नाटक में गुरु के जन्म के किस्से को बखूबी ढंग से सुनाया जाता है। उसके बाद गुरु जी की शिक्षाओं का वर्णन किया जाता है। नाटक के माध्यम से समझाया गया कि किस प्रकार गुरुनानक देव जी ने हिंदु और मुसलमानों के बीच के फर्क को समाप्त किया। वहीं अमीर गरीब तथा उंच नीच के भेद को भी गुरुजी ने समाप्त किया। नाटक में सुनाए गए सभी प्रसंग दर्शकों को रोमांचित कर रहे थे। दर्शक दीर्घा में बैठे सभी दर्शकों ने कलाकारों की अदाकारी से गुरुनानक देव जी के जीवन वृतांतों को जाना। नाटक में कुछ भी ऐसा नहीं दिखाया गया, जिससे किसी की भी धार्मिक भावना आहत हो। एक ओर जहां नाटक के कलाकार अपनी संवाद अदायगी से दर्शकों को भाव विभोर कर रहे थे, वहीं नाटक का संगीत भी सभी को रोमांचित करने में पीछे नहीं रहा। चेनीस गिल और प्रदीप की गायकी नाटक में चार चांद लगा रही थी। नाटक में मुख्यअतिथि के रुप में पहुंचे ।

डा. कुलदीप सिंह ने सभी को सम्बोंधित करते हुए कहा कि गुरुजी की शिक्षाओं को लोगों तक पहुंचाने का इससे सरल उपाय नहीं हो सकता। कलाकारों की अदायगी के माध्यम से आमजन सरलता से गम्भीर विषयों को भी समझ सकते हैं। वहीं बिना किसी धर्म को ठेस पहुंचाए सबकुछ कहना भी नाटक की सफलता का परिचायक है। मुख्यअतिथि ने नाटक निर्देशक मनीष जोशी को पौधा भेंटकर आभार जताया। वहीं मैक के क्षेत्रीय निदेशक नागेंद्र शर्मा ने मुख्यअतिथि को पौधा भेंटकर सम्मानित किया। नाटक में मुख्य भूमिकाओं में मधुर, अनूप बिश्नोई, तेजिंद्र सिंह, कुसुमपाल, अतुल, निपुण, चिराग तथा राजवीर ने साथ दिया। इस अवसर पर जसबीर दुग्गल, तेजेंद्र सिंह, संदेश खन्ना, रमेश सुखीजा, अमन शर्मा, पार्थ भारद्वाज आदि उपस्थित रहे।

Close