हरियाणा

भौतिक युग में मनुष्य के पास संस्कारों की कमी: विनोद गिरी

Spread the love

बवानीखेड़ा, 17 मई। हरिद्वार से पधारे महंत बालयोगी विनोदगिरी महाराज ने
कहा कि आज भौतिक युग में मनुष्य के पास धन व भौतिक संसाधनों की कोई कमी
नहीं है। हर प्रकार से मनुष्य समर्थ है, लेकिन  संस्कारों की कमी है। जिस
कारण समाज में अशांति फैल रही है। महंत विनोद गिरी बाबा अभयराम की कुटिया
में श्रद्धालुओं को प्रवचन कर रहे थे। उन्होंने ने कहा कि आज माता पिता
बच्चों की शिक्षा पर पैसा खर्च कर,उन्हें उच्च अधिकारी तो बना देते हैं
लेकिन संस्कार  नहीं दे पाते। आज देश के अधिकतर वृद्व आश्रमों में उच्च
अधिकारियों के माता पिता ही आश्रय पा रहे हैं।उन्होंने ने कहा कि उच्च
शिक्षा के साथ- साथ बच्चों को उच्च संस्कार भी प्रदान करें। जानकारी के
अभाव में ही देश का युवा भटकाव की और है। जिस कारण देश में लूटपाट,
डैकती, फिऱौती,हिंसा, अशांति बलात्कार,व्यभिचार व भरष्टाचार पनप रहा है।
बच्चे ही माता-पिता एवं राष्ट्र की वास्तविक पूंजी है इसलिये उनमें
संस्कार का बीज बाल्यकाल में ही रोपित करें। अध्यापकों का भी दायित्व है
कि वो शिक्षा के साथ संस्कार भी विद्यार्थी को प्रदान करें। इस अवसर पर
बाबा बालकनाथ, बाबा हनुमान गिरी,अजित राठौड़, निरंजन कौशिक,बीर सिंह
शर्मा, बल्लू, रामेहर शास्त्री सहित अनेक थे।

Close