Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!
महाराष्ट्रशिक्षासभी खबरें

छात्रों को सिखाये आईआईटी, एम्स और नीट में सफलता के गुर

Spread the love

-एलेन कॅरिअर इंस्टीट्यूट का आॅरिएंटेशन प्रोग्राम आयोजित
छात्रों और उनके परिजनों को आईआईटी और दूसरे सत्र में मेडिकल के बारे में विस्तार से जानकारी दी

नागपुर, 13 मई। एलेन कॅरिअर इंस्टीट्यूट, नागपुर (महाराष्ट्र) की ओर से डॉ. वसंतराव देशपांडे हॉल में आॅरिएंटेशन प्रोग्राम का आयोजन किया गया, इसमें तीन हजार से अधिक विद्यार्थियों और अभिभावकों ने भाग लिया। इस मौके पर विद्यार्थियों को आईआईटी, एम्स और नीट की तैयारी किस प्रकार से करें तथा सफलता कैसे हासिल करें के बारे में विस्तार से गुर सिखाया। इस प्रोग्राम में दो सत्र हुई, जिसमें पहले सत्र में छात्रों और उनके परिजनों को आईआईटी और दूसरे सत्र में मेडिकल के बारे में विस्तार से जानकारी दी। इस मौके पर विजिटर डेलिगेट्स के रूप में वरिष्ठ उपाध्यक्ष सी.आर. चौधरी, उपाध्यक्ष पंकज अग्रवाल और उपाध्यक्ष तुषार पारेख के साथ एलेन नागपुर के केंद्र प्रमुख आशुतोष हिसारिया और मेंटर विकास सिंघल उपस्थित थे। इस कार्यक्रम का उद्देश्य विद्यार्थियों को उस प्रणाली, संस्कृति और मूल्यों का परिचय देना था और सकारात्मकता, फोकस, अनुशासन तथा प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी का समग्र तरीका आसानी से समझाया। इससे पूर्व कार्यक्रम की शुरुआत स्वागत भाषण से हुई, जिसके बाद दीप प्रज्ज्वलन, प्राथना और राष्टगान से हुई।

-परीक्षाओं की तैयारी शुरू करने के बारे में समझाया
कार्यक्रम में तुषार पारेख ने एनटीएसई, केवीपीवाई और ओलंपियाड जैसे प्री नर्चर कॅरिअर फाउंडेशन प्रोग्राम और प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी शुरू करने के बारे में विस्तार से जानकारी दी। साथ ही पंकज अग्रवाल ने एलेन की प्रणाली और उसके महत्व के बारे में बताया।

 

-सफलता के लिए आदर्श वातावरण एलेन सेंटर हैड आशुतोष हिसारिया ने एलेन नागपुर सेंटर के सभी सदस्यों का परिचय दिया। उन्होंने प्रतियोगी परीक्षा में सफल होने के लिए छात्र को एक आदर्श वातावरण प्रदान करने के प्रति हमारी प्रतिबद्धता को सुदृढ़ किया।

-ऐसे किया प्रेरित
सी.आर.चौधरी ने छात्रों और अभिभावकों को इंजीनियरिंग और मेडिकल प्रवेश परीक्षाओं के बारे में जानकारी देते हुए प्रेरित किया। उन्होंने प्रतियोगी परीक्षा में बेहतर प्रदर्शन के लिए सकारात्मक सोच और अनुशासन के महत्व समझाया। चौधरी ने कहा कि अपने मस्तिष्क को प्रशिक्षित करें। अपने लक्ष्य को जल्दी निर्धारित करें और अपने विषयों पर ध्यान केंद्रित करें। उन्होंने कहा कि आप परीक्षा को क्रैक करते हैं या परीक्षा आपको क्रैक करती है। यह आपकी तैयारी पर निर्भर करता है। आईआईटी प्रवेश परीक्षा को क्रैक करने के लिए रचनात्मकता की आवश्यकता होती है। जबकि एम्स गति और सटीकता की मांग करता है। शिक्षक के साथ छात्र का रिश्ता इंटेलिजेंस को बढ़ाता है। चौधरी ने कहा कि आपकी वर्तमान सफलता और असफलताएं आपके भविष्य का निर्धारण नहीं करती हैं तथा अथक तैयारी करें। माता-पिता को वर्तमान कमियों के बावजूद आशावादी दृष्टिकोण सुनिश्चित करना चाहिए। अपना समय निवेश करें और अपना समय बर्बाद मत करों।

 

Close