Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!
Breaking Newsराजनीतीहरियाणा

जानिए कैसे और कहाँ सुरक्षित रखी जाएँगी EVM मशीन

Spread the love
39 स्थानों पर बनाए गए 90 स्ट्रोंग रूम 
स्ट्रोंग रूम के बाहर केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बल तैनात रहेंगे
कमरों के अंदर सीसीटीवी कैमरों से पैनी नहर रहेगी
रिटर्निंग अधिकारी 3 बार स्ट्रोंग रूम को विजिट करेगा
स्ट्रोंग रूम में ईवीएम और वीवीपैट मशीनों को रखने और कमरे को सील करने की पूरी प्रक्रिया की वीडियोग्राफी की जाएगी
एक दरवाजे को छोड़ कर बाकी सभी दरवाजों और खिड़कियों को सील कर दिया जाएगा
चंडीगढ़, 12 मई- हरियाणा में रविवार को मतदान होने के बाद ईवीएम और वीवीपैट मशीनों को सुरक्षित रखने के लिए 39 स्थानों पर 90 स्ट्रोंग रूम बनाए गए हैंै।  सुरक्षा के दृष्टिïगत स्ट्रोंग रूम के बाहर केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बल तैनात रहेंगे और कमरों के अंदर सीसीटीवी कैमरों से पैनी नहर रहेगी।
हरियाणा के संयुक्त मुख्य निर्वाचन अधिकारी डॉ. इन्द्र जीत ने इस संबंध में जानकारी देते हुए बताया कि भारत निर्वाचन आयोग के निर्देशाुनसार ही  स्ट्रोंग रूम तैयार किए गए हैं। उन्होंने बताया कि आयोग के निर्देशानुसार रिटर्निंग अधिकारी 3 बार स्ट्रोंग रूम को विजिट करेगा। स्ट्रोंग रूम में ईवीएम और वीवीपैट मशीनों को रखने और कमरे को सील करने की पूरी प्रक्रिया की वीडियोग्राफी की जाएगी। रूम का केवल एक ही दरवाजा होगा। यदि स्ट्रोंग रूम में एक से अधिक दरवाजे हैं तो एक दरवाजे को छोड़ कर बाकी सभी दरवाजों और खिड़कियों को सील कर दिया जाएगा। रूम को डबल लॉक किया जाएगा।  स्ट्रोंग रूम का थ्री-टायर सिक्योरिटी सिस्टम होगा।
उन्होंने बताया कि उम्मीदवारों या उनके चुनावी एजेंटों के लिए स्ट्रोंग रूम के बाहर शौचालय, पीने का पानी और शैड की सुविधा मुहैया करवाई जाएगी। स्ट्रोंग रूम के परिसर तक आने और जाने वालों के लिए लॉग बुक लगाई जाएगी, जिसमें उनकी उपस्थिति दर्ज की जाएगी। लॉग बुक को रिटर्निंग अधिकारी या जिला निर्वाचन अधिकारी अपनी देखरेख में रखेगा।
डॉ. इन्द्र जीत ने बताया कि आयोग की हिदायतों के अनुसार स्ट्रोंग रूम को केवल आपातकालीन स्थिति जैसे आग लगना, बाढ़ आना या भूकंप आने की स्थिति में ही खोला जा सकता है। लेकिन रूम को खोलने से पहले आयोग को बताना होगा और आयोग की अनुमति प्राप्त होने पर ही स्ट्रोंग रूम को खोला जा सकता है। आपातकालीन स्थिति में स्ट्रोंग रूम  से ईवीएम और वीवीपैट मशीनों को रिटर्निंग अधिकारी, जिला निर्वाचन अधिकारी, उम्मीदवारों या उनके चुनावी एजेंट और केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बल की मौजूदगी में दूसरी जगह शिफ्ट किया जाएगा। इस पूरी प्रक्रिया की वीडियोग्राफी करवाई जाएगी।
Close