हरियाणा

पर्यावरण संरक्षण के लिए कुलपति की अगुवाई में जागरूकता अभियान आयोजित

-राजकीय उच्च विद्यालय, जांट में कुलपति ने विद्यार्थियों को किया संबोधित

Spread the love

न्यूज महेंद्रगढ़

प्रकृति हमें जीवन देती है और हमें इसके प्रति अपनी जिम्मेदारी समझते हुए बढ़ते प्रदूषण पर अंकुश लगाने की जरूरत है। प्रदूषण की समस्या केवल वायु प्रदूषण तक ही सीमित नहीं है। हमारे आसपास फैली गंदगी भी प्रदूषण का ही एक कारक है और हमारी जिम्मेदारी है कि हम सब मिलजुलकर पर्यावरण संरक्षण व स्वच्छता के लिए प्रयास करें। यह विचार हरियाणा केंद्रीय विश्वविद्यालय (हकेंवि), महेंद्रगढ़ के कुलपति प्रो. आर.सी. कुहाड़ ने बुधवार को विश्वविद्यालय द्वारा गोद लिए गए गांव जांट में आयोजित पर्यावरण संरक्षण व स्वच्छता जागरूकता रैली को संबोधित करते हुए व्यक्त किए। इसके पश्चात  विश्वविद्यालय कुलपति प्रो. आर.सी. कुहाड़ ने जागरूकता रैली को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। विश्वविद्यालय परिसर से स्थानीय गांव में भ्रमण कर राजकीय उच्च विद्यालय, जांट तक आयोजित इस रैली की अगुवाई कुलपति प्रो. आर.सी. कुहाड़ ने की और इस अवसर पर विश्वविद्यालय के प्रोक्टर प्रो. राजेश मलिक, छात्र कल्याण अधिष्ठाता प्रो. संजीव कुमार, जीवन विज्ञान पीठ के अधिष्ठाता प्रो. सतीश कुमार भी उपस्थित रहे।

अंतर्राष्ट्रीय पृथ्वी दिवस के उपलक्ष्य में पर्यावरण विज्ञान विभाग व राष्ट्रीय सेवा योजना (एनएसएस) इकाई के साझा प्रयासों से आयोजित इस जागरूकता रैली में विश्वविद्यालय, स्थानीय नागरिक व राजकीय उच्च विद्यालय, जांट के विद्यार्थियों व शिक्षकों ने हिस्सा लिया। राजकीय उच्च विद्यालय प्रशासन की ओर से श्रीमती कमलेश यादव व अन्य शिक्षकों ने इस आयोजन में सक्रिय भूमिका अदा की और उनके सहयोग से विद्यालय परिसर में मानव श्रृंखला बनाकर स्वयंसेवकों व विश्वविद्यालय के विद्यार्थियों के सामूहिक सहयोग से पर्यावरण के समक्ष समस्याओं से निपटने पर भी जोर दिया गया। इस मौके पर  कुलपति प्रो. आर.सी. कुहाड़ ने विद्यार्थियों को पर्यावरण संरक्षण व स्वच्छता के महत्त्व से अवगत कराया और बताया कि वह किस तरह से छोटे-छोटे प्रयासों से इस मुहिम में अपना सक्रिय योगदान दे सकते हैं।

यह भी पढ़े   गांव बजीणा में गोगा नवमी पर खेल प्रतियोगिता 25 व 26 को

कार्यक्रम के संदर्भ में एनएसएस इकाई के संयोजक डॉ. दिनेश चहल व पर्यावरण विज्ञान विभाग के सहायक आचार्य डॉ. सोमवीर बजाड़ ने बताया कि विश्वविद्यालय के स्तर पर लगातार स्थानीय गांवों में यह जागरूकता अभियान जारी है और इसके माध्यम से न सिर्फ ग्रामीणों बल्कि स्थानीय विद्यालय में अध्ययनरत विद्यार्थियों को पर्यावरण के समक्ष चुनौतियों व समस्याओं से अवगत कराया जा रहा है। इस मौके पर विश्वविद्यालय के प्रोक्टर प्रो. राजेश मलिक व जीवन विज्ञान पीठ के अधिष्ठाता प्रो. सतीश कुमार ने भी विद्यार्थियों को पर्यावरण संरक्षण के प्रति जागरूक किया और उन्हें स्वच्छता अभियान में अपना सक्रिय योगदान करने के लिए संकल्प दिलाया।

Close