Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!
शिक्षाहरियाणा

शिक्षा भारती नहीं कोई संस्था बल्कि है एक परिवार

हवन-यज्ञ कर कि गई नए सत्र की शुरुआत

Spread the love

देश की उन्नति में विद्यार्थियों की अहम भूमिका: योगेश शास्त्री

सतनाली मंडी (प्रिंस लांबा)। हमारी प्राचीन संस्कृति व ग्रंथों के अनुसार किसी भी कार्य की शुरूआत हवन-यज्ञ के साथ करनी चाहिए क्योंकि हवन-यज्ञ शरीर व मन को शांति मिलती है तथा प्रकृति को लाभ होता है। इसलिए हमें हमारी संस्कृति को न भूलकर उसे बढ़ावा देते हुए इस तरह के धार्मिक क्रियाकलाप करते रहने चाहिए। उक्त विचार क्षेत्र के गांव नांवा स्थित शिक्षा भारती सीनियर सैकेंडरी विद्यालय संचालक योगेश शास्त्री ने नए सत्र की शुरूआत के लिए आयोजित किए गए हवन-यज्ञ में आहुति डालकर विद्यार्थियों के प्रेरित करते हुए व्यक्त किए।

 

 

शुक्रवार को शिक्षा भारती विद्यालय में नए सत्र का शुभारंभ हवन-यज्ञ के साथ किया गया। शास्त्री द्वारा विद्यालय प्रांगण में हवन किया गया, जिसमें विद्यालय के समस्त स्टॉफ तथा विद्यार्थियों ने आहुति देकर नए सत्र का शुभारंभ किया और सभी ने कामना की कि आने वाला यह वर्ष हमारे विद्यालय का अपनी कर्मठ, मेहनत से शिक्षा का प्रचार करें और देश के निर्माण में योगदान दें। इसी के साथ विद्यालय संचालक योगेश शास्त्री ने विद्यार्थियों व अध्यापकगणों को देश का उज्ज्वल भविष्य का निर्माण करने में अपनी मेहनत और ईमानदारी से विद्यालय में कार्य व पढ़ाई करने की प्रेरणा दी। उन्होंने कहा कि देश का भविष्य विद्यार्थियों पर टिका होता है तथा विद्यार्थी देश की प्रगति व उन्नति में सबसे अहम भूमिका निभाते हैं। जिस तरह जड़ें पेड़ को मजबूती के साथ खड़ा रखती हैं उसी प्रकार देश का आधार भी विद्यार्थियों द्वारा ही मजबूत किया जाता है। इसलिए विद्यार्थियों को देश की उन्नति के लिए मन लगाकर पढ़ाई करनी चाहिए व शिक्षकों को भी बच्चों का भविष्य संवारने के लिए कठिन परिश्रम करना चाहिए।

 

उन्होंने कहा कि शिक्षा भारती कोई विद्यालय नहीं है बल्कि यह एक परिवार है जहां बच्चों को शिक्षा ही नहीं बल्कि अच्छे संस्कार, सेवा भाव, देश प्रेम आदि भावना के साथ आगे बढऩे के अवसर प्रदान किए जाते हैं। हमारे विद्यालय का मकसद कम शुल्क में महानगरों की तर्ज पर सुविधाएं देना व जिला तथा क्षेत्र के बच्चों की उन्नति व उनका भविष्य सुधारकर देश का सुनहरे भविष्य निर्माण में सहायता देना है। जिससे भारत देश उन्नति कर संपूर्ण विश्व में सबसे आगे जा सके।

Related Articles

Close