Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!
Breaking Newsराजस्थानशिक्षा

राजस्थान में बेटियों को मिलेगा एक-एक लाख का पुरस्कार: शिक्षा मंत्री

Spread the love
30 Views

 शिक्षा मंत्री गोविन्द सिंह डोटासरा ने की घोषणा*

*सीकर।।* होनहार बेटियों को और आगे बढ़ाने के लिए शिक्षा राज्यमंत्री गोविन्द सिंह डोटासरा ने राष्ट्रीय बालिका दिवस के मौके पर कई घोषणा की है। शिक्षा मंत्री डोटासरा ने बालिका शिक्षा को बढ़ावा देने के लिए कक्षा 8, 10 एवं 12 की परीक्षाओं में जिला स्तर पर प्रथम स्थान प्राप्त करने वाली छात्राओं को इंदिरा प्रियदर्शिनी पुरस्कार से सम्मानित करने की घोषणा की है। उन्होंने कहा कि इस योजना के तहत कला, विज्ञान और वाणिज्य तीनो विषय में जिले में प्रथम स्थान प्राप्त करने वाली बालिकाओं को अलग-अलग सम्मानित किया जाएगा।

शिक्षामंत्री डोटासरा ने बताया कि इंदिरा प्रियदर्शिनी योजना के तहत पुरस्कार स्वरूप कक्षा 8 की परीक्षा में जिले में प्रथम स्थान प्राप्त करने वाली बालिका को 40 हजार रुपए, कक्षा 10 में प्रथम स्थान प्राप्त करने वाली बालिका को 75 हजार रुपए, 12वीं में जिला स्तर पर प्रथम स्थान प्राप्त करने वाली बालिकाओं को एक लाख रुपए व प्रमाण पत्र प्रदान किया जाएगा।
उन्होंने बताया कि कक्षा 12 वीं एवं वरिष्ठ उपाध्याय की बालिकाओं को पुरस्कार राशि के अतिरिक्त स्कूटी भी दी जाएगी। सामान्य, अनुसूचित जाति, अनूसूचित जनजाति, एसबीसी, अन्य पिछडा वर्ग, अल्पसंख्यक वर्ग, बीपीएल वर्ग की प्रत्येक जिले में ऐसी बालिकाएं जिन्होंने कक्षा 8, 10 एवं 12 की परीक्षाओं में कला, विज्ञान एवं वाणिज्य विषय में प्रथम स्थान प्राप्त किया है, उन्हें राज्य सरकार द्वारा यह पुरस्कार प्रदान किया जाएगा।
बैठक में शेखावाटी की जानी स्थिति शिक्षा विभाग की विभिन्न योजनाओं, शैक्षिक व्यवस्था सहित अन्य मुद्दों को लेकर शिक्षा मंत्री ने जयपुर में गुरुवार को विभाग के अधिकारियों की लगभग नौ घंटे बैठक ली। बैठक में शेखावाटी पर डोटासरा का खासा फोकस रहा। उन्होंने शिक्षकों को उनके जिलों में ही प्रशिक्षण देने की भी हिदायत दी है। उन्होंने कहा कि प्रशिक्षण सजा नहीं है। इसके नाम पर शिक्षकों को परेशान नही किया जाना चाहिए। उन्होंने विद्यार्थियों की आवश्यकता और शैक्षिक गुणवत्ता वृद्धि को केंद्र में रखकर शिक्षकों का प्रशिक्षण कराने की बात भी कही।

Related Articles

Close