Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!
Breaking Newsराजस्थान

पूर्व विधायक का कब्जा हटाने गये अमले को सुननी पड़ी गालियां !

Spread the love
52 Views

श्रीगंगानगर। सुखाडिय़ा सर्किल श्रीगौशाला के पास रविवार को उस समय हंगामा मच गया जब नगर परिषद का अमला तीस साल से अधिक पुराने अतिक्रमण को हटाने पहुंचा था। इस अतिक्रमण को कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व विधायक गंगाजल मील के परिवार ने कर रखा है, यह भूमि पहले दधिमथी संस्कृत पाठशाला के नाम थी लेकिन मील परिवार ने स्कूल बंद होने के बाद स्कूल प्रबंध समिति से खरीद ली थी।
इस स्कूल के पास तीस फीट चौड़ी सडक़ पहले थी जिसे मील परिवार ने स्कूल की भूमि का हिस्सा बताकर कब्जा जमा लिया, हाईकोर्ट में भी इस मामले को चुनौती दी गई लेकिन वहां याचिका खारिज हो गई। इसके बाद यह मामला डीएलबी में पहुंचा लेकिन वहां भी निगरानी याचिका नामंजूर होते ही नगर परिषद के उपसभापति अजय दावड़ा लक्की की शिकायत पर नगर परिषद आयुक्त अशोक असीजा ने एक टीम गठित कर पुरानी रोड भूमि से कब्जा हटाने के आदेश जारी कर दिए।
यह टीम जैसे ही वहां पहुंची तो पूर्व विधायक गंगाजल के पुत्र महेन्द्र मील ने हंगामा कर दिया। मील का कहना था कि हमने नगर परिषद में जब 60 गुणा 100 फीट भूमि का शुल्क जमा कराया है तो बाकी 30 गुणा 100 फीट साइज के शुल्क जमा क्यों नहीं कर रहे हो और अब अतिक्रमण नहीं हटाने दूंगा। एक्सकेवेटर मशीन के आगे खड़े होकर नगर परिषद अमले में शामिल अधिकारियों को जमकर गालियां दी। इस गाली गलौज की नगर परिषद प्रशासन ने वीडियोग्राफी भी कराई है। नगर परिषद अमले के साथ पुलिस का एक दल भी पहुंचा था। एएसआई केवल सिंह का कहना था कि आरएसी के चालीस जवान साथ आए थे लेकिन वहां महेन्द्र मील ने अतिक्रमण हटाने से रोकने का प्रयास किया तो उसे वहां हटा दिया।
लेकिन मील ने परिषद अधिकारियेां के खिलाफ कई अपशब्द बोले थे, इसकी बकायदा रिकॉर्डिग भी दर्ज की जा चुकी है। अब परिषद अधिकारी ही लिखित में शिकायत करेंगे तो मील के खिलाफ कार्रवाई करेंगे।
इधर, नगर परिषद के राजस्व अधिकारी और अमले के प्रभारी जुबेर खान का कहना था कि पूरे तथ्यों और वीडियोग्राफी की फुटेज आयुक्त के समक्ष पेश की जा रही है, आयुक्त के आदेश पर ही मुकदमा दर्ज कराएंगे।
करीब चार दशक पूर्व दधिमथी उच्च प्राथमिक विद्यालय और संस्कृत पाठशाला का संचालन 60 गुणा 100 फीट साइज के भूखण्ड में चलता था, यह भूमि शिक्षा की जागृति के लिए थी इसलिए नगर परिषद ने इसे एक रुपए में पट्टा भी जारी किया था।
लेकिन स्कूल प्रबंध समिति ने यह स्कूल और पाठशाला बंद कर दी तो यह भूमि पूर्व विधायक गंगाजल मील के भाई कृष्ण मील और उसके परिवारिक सदस्यों ने खरीद कर ली। इस भूमि के पास तीस फीट की चौैड़ी सडक़ श्रीगौशाला के मुख्य गेट तक और दूसरे साइड में यह जैन पेट्रोल पम्प की ओर खुलती थी, इस रोड को मील परिवार ने स्कूल की भूमि बताकर वहां कब्जा जमा लिया।
चार दीवारी कर इस अतिक्रमण को अपना अधिकार समझ लिया। इस रोड के पास नगर परिषद के वर्तमान उपसभापति अजय दावड़ा लक्की का मकान है, उपसभापति ने नगर परिषद प्रशासन से रोड को कब्जा मुक्त कराने के लिए लिखित में गुहार की तो मील परिवार इस मामले को हाईकोर्ट ले गया। वहां रोड भूमि को स्कूल भूमि बताया गया लेकिन हाईकोर्ट ने मील परिवार की याचिका खारिज कर दी।
ऐसे में मील परिवार ने राजनीतिक एप्रोच के कारण इस मामले को फिर से स्वायत्त शासन विभाग जयपुर में निगरानी याचिका दायर कर दी, वहां डीएलबी निदेशक पवन अरोड़ा ने यह निगरानी याचिका खारिज कर दी।
डीएलबी ने रोड को अतिक्रमण मुक्त करने के आदेश नगर परिषद आयुक्त को दिए तो आयुक्त अशोक असीजा ने कब्जा हटाने के लिए एक टीम गठित कर दी।

Related Articles

Close