Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!
Breaking Newsक्राइमछत्तीसगढ़

छत्तीसगढ़ नान घोटाला : घोटाला छिपा कर गुप्-चुप चल रही थी जाँच सरकार गई तो खुलने लगे राज

Spread the love

ईडी से नान घोटाला छिपाया था भाजपा सरकार ने, अब केस दर्ज
6 महीने से जारी थी जांच, अब मनी लांड्रिग का मामला बना

रायपुर,30 जनवरी। छत्तीसगढ़ के बहुचर्चित नान घोटाले में प्रर्वतन निदेशालय यानी ईडी ने मनी लांड्रिग एक्ट का केस दर्ज किया है। ईडी ये केस महीनों पहले भी दर्ज कर सकता था, लेकिन तत्कालीन भाजपा सरकार ने मामले से जुड़े दस्तावेज जांच के लिए ईडी को नहीं दिए थे।अब ईडी ने बाकायदा केस दर्ज करने के बाद राज्य सरकार तथा ईओडब्लू को नोटिस जारी कर मामले से जुड़े सत्यापित दस्तावेज देने कहा है। अब सरकार की बाध्यता होगी कि वह जांच के लिए सभी दस्तावेज दे।
पूर्ववर्ती भाजपा सरकार के कार्यकाल में नान घोटाला सामने आया था। इस मामले में ईओडब्लु ने कुल 16 लोगों के खिलाफ केस दर्ज किया था। लेकिन इसी जांच में एक डायरी सामने आई थी जिसमें 107 से अधिक उन लोगों के नाम थे जिन्हें घोटाले की रकम का हिस्सा नियमित रूप से मिल रहा था। लेकिन ये नाम अब तक सामने नहीं आए। इसी बीच करीब 6 माह पहले ई़डी ने मामले की प्रारंभिक जांच शुरु करते हुए तत्कालीन भाजपा सरकार से मामले से जुड़े दस्तावेज की मांग की थी। ईडी सूत्रों का कहना है कि उस समय सरकार ने जांच के लिए दस्तावेज नहीं दिए। यही वजह है कि ईडी ने अपने स्तर पर जानकारी व तथ्य जुटाने के बाद अब केस दर्ज किया है। ईओडब्लु ने जब छापामार कार्रवाई की थी तभी करोड़ो रूपए नकद बरामद हुए थे। ईडी घोटाले की रकम में मनी लांड्रिग की जांच करेगा।

 

अब देने होंगे सभी दस्तावेज

अब केस दर्ज करने के बाद ईडी ने राज्य सरकार ईओडब्लु तथा संबंधित एजेंसियों को नोटिस देकर मामले से जुड़े सभी दस्तावेज सत्यापति प्रतिलिपि में देने कहा है। माना जा रहा है कि कांग्रेस नेतृत्व वाली सरकार इसमें विलंब नहीं करेगी। क्योंकि कांग्रेस ने इस मामले को लेकर सरकार बनने के पहले भी गंभीर आरोप लगाए थे, सरकार में आने के बाद इस मामले की जांच के लिए एसआईटी का गठन भी कर दिया है। यह जांच जारी है।

अब बढ़ सकती है आरोपियों की संख्या

इस मामले में ईडी की जांच के दाैरान पहले नामजद हो चुके आरोपियों के अलावा अन्य आरोपियों के नाम भी सामने आ सकते है, जिन पर अब तक आंच भी नहीं आने दी गई है। सूत्रों के अनुसार ईडी ने नामजद के अलावा अज्ञात लोगों को भी आरोपी माना है, इनके खिलाफ जांच होने के बाद नाम सामने आना बाकी है।

 

दो आईएएस समेत 16 आरोपी

नान मामले में ईओडब्लु ने आईएएस आलोक शुक्ला तथा अनिल टुटेजा सहित 16 लोगों को आरोपी बनाया है। इनके खिलाफ मुख्य तथा पूरक चालान पेश किए जा चुके हैं। आरोपियों में से एक शिवशंकर भट्ट जेल में, 12 जमानत पर दो फरार तथा एक की मृत्यु हो चुकी है।

खुल सकता है डायरी के नामों का रहस्य

ईडी की जांच को लेकर ये संभावना भी है कि पूर्व में सामने आई नान डायरी में कोड वर्ड में जिनके नाम लिखे हैं वे नाम सामने आ सकते हैं। इनमें उन लोगों के नाम भी शामिल हैं जो पिछली सरकार में अत्यंत प्रभावशाली रहे हैं। इनके अलावा नान से रूपए वसूलने वालों के नाम भी खुल सकते हैं।

Related Articles

Close