Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!
Breaking News

रेल कारखाने से युवाओं को मिलेगा मौका, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

Spread the love
148 Views

रोहतक (संदीप कुमार )
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को हरियाणा के रोहतक जिले स्थित सांपला में दीनबंधु सर छोटूराम की 64 फीट ऊंची प्रतिमा का अनावरण किया। इसके साथ ही पीएम मोदी ने सोनीपत जिले में बनने जा रही रेल कोच फैक्ट्री का भी शिलान्यास किया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हरियाणवी में अपने संबोधन की शुरुआत करते हुए जाटलैंड के तकरीबन 28 फीसदी जाट मतदाताओं को आगामी लोकसभा चुनाव 2019 के मद्देनजर साधने की कोशिश की।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा, ‘यह मेरा सौभाग्य है कि आज मुझे सांपला में किसानों की आवाज, किसानों के मसीहा, रहबर-ए-आजम, दीनबंधु चौधरी छोटूरामजी की इतनी भव्य प्रतिमा का अनावरण करने का मौका मिला। इससे पहले मैं चौधरी छोटूरामजी की याद में बने संग्रहालय में भी गया था। सांपला-रोहतक के लिए सर छोटूरामजी की यह प्रतिमा पहचान बन गई है।’
इन्होंने तैयार की हैं सर छोटूराम और सरदार पटेल की मूर्ति
पीएम मोदी ने कहा, ‘अक्टूबर महीने में हरियाणा की सबसे ऊंची सर छोटूरामजी की मूर्ति का अनावरण करने का मौका मिला और 31 अक्टूबर को दुनिया की सबसे ऊंची सरदार वल्लभ भाई पटेल की मूर्ति का अनावरण करने का अवसर मिलेगा। दोनों ने किसानों लिए बहुत काम किया। बता दूं कि इस प्रतिमा का निर्माण किया है श्रीमान सुतारजी ने, इन्हीं ने सरदार वल्लभ भाई पटेलजी की मूर्ति का भी निर्माण किया है। मैं हरियाणा, राजस्थान और पंजाब के साथ-साथ देश के सभी जागरूक नागरिकों को बधाई देता हूं। रेल कारखाने से युवाओं को मिलेगा मौका’
पीएम मोदी ने कहा, ‘सर छोटूरामजी की आत्मा जहां भी होगी, यह देखकर खुश होगी कि आज के ही दिन सोनीपत में रेल कोच कारखाने का शिलान्यास हुआ है। इस कोच फैक्ट्री के बनने के बाद यात्री डिब्बों के रखरखाव के लिए डिब्बों को दूर की फैक्ट्रियों में भेजने की मजबूरी समाप्त हो जाएगी। यात्री डिब्बों की उपलब्धता बनी रहेगी। इस कोच कारखाने से युवाओं को रोजगार के अवसर मिलेंगे। यहां के इंजिनियरों और टेक्निशन को कारखाने की वजह से विशेषज्ञता हासिल करने का मौका मिलेगा। सरदार पटेल ने कही थी सर छोटूराम के लिए यह खास बात
संबोधन के दौरान नरेंद्र मोदी ने कहा, ‘साथियों यह मेरा सौभाग्य रहा कि हरियाणा में मुझे बहुत काम करने का मौका मिला। जब मैं यहां काम करता था तो शायद ही ऐसा कोई दिन जाता हो कि सर छोटूरामजी का कोई न कोई प्रसंग न सुनाता हो। हरियाणा में ऐसा कोई गांव नहीं, जहां का कोई सदस्य सेना से न जुड़ा हुआ हो। सेना के साथ जुड़कर काम करने का श्रेय काफी हद तक दीनबंधु सर छोटूरामजी को जाता है। वह अपने जीवन में स्वतंत्र भारत को तो नहीं देख पाए लेकिन उन्होंने आवश्यकताओं, आकांक्षाओं को बखूबी समझा था। उन्होंने हमेशा अंग्रेजों की बांटों और राज करो के खिलाफ आवाज बुलंद की। सरदाल वल्लभ भाई पटेल ने कहा था कि यदि आज सर छोटूरामजी जीवित होते तो बंटवारे के समय पंजाब की चिंता मुझे नहीं करनी पड़ती…सर छोटूरामजी संभाल लेते।’ पीएम मोदी ने कहा, ‘यहीं रोहतक में चौधरी साहब ने कहा था कि मेरे लिए किसान, गरीबी का भी प्रतीक है और अंग्रेजी सेना के अत्याचार के खिलाफ झंडा बुलंद करने वाला सैनिक भी है। ‘दायरे में क्यों सीमित किया गया महान व्यक्तित्व?’
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा, ‘मैंने साहूकार वाला किस्सा कई बार सुना है। साहूकार ने सर छोटूरामजी को पटवारी बनने की सलाह दे दी थी। साहूकार को इस बात का बोध नहीं था कि जिसको पटवारी बनने की सलाह दी है वह हजारों पटवारियों का प्रमुख बनने वाला है। देश में बहुत से लोगों को तो यह तक नहीं पता होगा कि यह जो भाखड़ा बांध है वह सोच सर छोटूरामजी की ही थी। कई बार तो मुझे हैरानी होती है कि इतने महान व्यक्ति को एक दायरे में क्यों सीमित किया गया। हमारी सरकार देश का मान बढ़ाने वाले व्यक्तित्वों का सम्मान करने का काम कर रही है।’

क्या बोले पीएम मोदी
हाल में ही इंडिया पोस्ट पेमेंट बैंक भी शुरू किया गया है।
हमारी सरकार ‘बीज से बाजार’ की सशक्त व्यवस्था बनाने की दिशा में काम कर रही है।
राज्य के करीब 50 लाख किसानों को सॉइल हेल्थ कार्ड मिले हैं।
हाल में लखवार बांध के लिए 6 राज्यों के बीच ऐतिहासिक समझौता हुआ है।
साहूकारों से बचने के लिए किसानों के लिए बैंक के दरवाजे खोल दिए गए हैं।
धान के समर्थन मूल्य में 200 रुपये की बढ़ोतरी की गई है।
कई वर्षों से की जा रही मांग अब हमारी सरकार ने पूरी की है।
आयुष्मान भारत की पहली लाभार्थी आपके राज्य की ही एक बेटी है।
हरियाणा ने खुद को खुले में शौच से मुक्त कर लिया है।
यहां की महर्षि दयानंद यूनिवर्सिटी को स्वच्छता में पहला स्थान मिला है।
हरियाणा के छोटे-छोटे गांव की बेटियां विश्व मंचों पर देश का गौरव बढ़ा रही हैं।
कुछ दिनों में हरियाणा दिवस आने वाला है, इसके लिए मैं सभी को पहले से बधाई देता हूं।

कौन हैं रहबर-ए-आजम छोटूराम
सर छोटूराम का जन्म 24 नवंबर 1881 में रोहतक जिले के गढ़ी सांपला में हुआ था। घर में सबसे छोटे होने की वजह से उन्हें सभी छोटू नाम से पुकारते थे और इसी तरह उनका नाम छोटूराम पड़ गया। कहा जाता है कि प्रथम विश्व युद्ध के दौरान उन्होंने रोहतक से 22 हजार से ज्यादा सैनिकों को सेना में भर्ती कराया था। वह 1916 में कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष बने और 1919 तक उन्होंने यह पद संभाला। सर छोटूराम ने 1923 में यूनियनिस्ट पार्टी का गठन किया और वह 1924 में कृषि मंत्री बने और 1926 तक उन्होंने इस जिम्मेदारी का निर्वहन किया। दीनबंधु सर छोटूराम को कई पुरस्कारों से भी नवाजा गया। उन्हें 1919 में राय बहादुर, 1942 में दीनबंधु और 1944 में रहबर-ए-आजम पुरस्कार मिला। उन्होंने किसानों पर हो रहे अत्याचारों के खिलाफ आवाज बुलंद करने के लिए जाट गजट नाम के अखबार का सहारा लिया। दीनबंधु सर छोटूराम को एक बड़े किसान नेता के रूप में जाना जाता है

Related Articles

Close