Breaking News

इनेलो की पारिवारिक जंग :इसे कहते हैं ” भरी थाली को लात मारणा “

Spread the love
  • राजनीतिक विरासत की जंग चौटाला परिवार की अपनी जंग है
  • प्रदेश भर में इनेलो समर्थकों व् कार्यकर्ताओं को इससे कुछ विशेष लेना देना नहीं है
  • उसेराजचाहिए और उसे अब आस है किराज सकता है
  • टिकट चाहने वाले को अभय सिंह चौटाला में कोई कमी नजर नहीं आती
  • उन्हें दुष्यंत से भी कोई समस्या नहीं है

हरियाणा में एक कहावत है कि ” भरी थाली को लात मारणा ” इस समय इनेलो परिवार में राजनीतिक विरासत को लेकर द्वंद चल रहा है उससे पार्टी का अग्रिम पंक्ति का वरिष्ठ कार्यकर्ता हताश और निराश है । राजनीतिक विरासत कि जंग चौटाला परिवार की अपनी जंग है प्रदेश भर में इनेलो समर्थकों व् कार्यकर्ताओं को इससे कुछ विशेष लेना देना नहीं है उसे ”

राज” चाहिए और उसे अब आस है कि ” राज ” बन सकता है पार्टी के वरिष्ठ कार्यकर्ता तो यह समझ कर चल रहे हैं कि मुख्यमंत्री कोई बने उन्हें तो राज चाहिए ।

टिकट चाहने वाले कार्यकर्ताओं को अभय सिंह चौटाला में ऐसी कोई कमी नजर नहीं आती कि उन्हें मुख्यमंत्री न बनाए जाए । उन्हें दुष्यंत से भी कोई समस्या नहीं है।

वह तो बस दो बातों पर विचार करके चल रहे हैं एक यह कि किसीभी तरह सत्ता मिले और एक यह कि जो ओम प्रकाश चौटाला कहें उसे दुष्यंत अभय सिंह चौटाला सहित सब मानें । पार्टी काडर अब इस बात से खफा है कि पार्टी को मजबूत करने के लिए और आंदोलन चलाने में वे पैसा पानी की तरह बहाएं, विरोधियों से वाद विवाद करें और पार्टी नेताओं में से ही कोई उनका ऐन मौके पर दबाव बना कर उनकी म्हणत पर पानी फेर दे तो ठीक नहीं । यह ठीक है कि दुष्यंत को लेकर राज्य में स्विंग (हवा) है परंतु दबाव बनाते समय आप अपने ही पैर पर कुल्हाड़ी मार लें तो आपको समय माफ नहीं करेगा किसी ने ठीक कहा है कि जब व्यक्ति को अपनों से ज्यादा गैर अच्छे लगने लगे तो समझो उसके बुरे दिन शुरू हो गए

Close