Breaking News Featured देश राजनीती

अरविंद केजरीवाल का उप-राज्यपाल के दफ्तर में धरना जारी

नई दिल्ली: आईएएस अधिकारियों के काम पर लौटने की मांग को लेकर दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल का उप-राज्यपाल के दफ्तर में धरना जारी है. तीसरा दिन है जब आम आदमी पार्टी (आप) के संयोजक केजरीवाल अपने कैबिनेट सहयोगियों मनीष सिसोदिया, गोपाल राय , सत्येंद्र जैन के साथ एलजी अनिल बैजल के दफ्तर में डटे हैं. स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने बैजल पर दबाव बनाने के लिए कल बेमियादी भूख हड़ताल शुरू की थी.

केजरीवाल के धरने पर आम आदमी पार्टी के संस्थापक सदस्य कुमार विश्वास ने इशारों-इशारों में निशाना साधा है. उन्होंने ट्वीट कर कहा, ”बाक़ी तो सब है इस तमाशे में , सिर्फ़ ग़ायब हैं कथ्य की बातें ! क्या ग़ज़ब दौर ए बेहयाई है , झूठ के मुँह से सत्य की बातें ?” कुमार विश्वास पिछले कुछ समय से पार्टी में अलग-अलग थलग चल रहे हैं.

केजरीवाल बोले- संघर्ष जारी है
आज सुबह केजरीवाल ने ट्वीट कर कहा कि दिल्ली वालों के लिए संघर्ष जारी रहेगा. उन्होंने कहा, ”सभी दिल्लीवासियों को सुप्रभात. Good morning. दिल्ली के विकास के कामों में उत्पन्न की जा रही बाधाओं को दूर करवाने के लिए संघर्ष जारी है. हमारा आत्मबल ही हमारी ताकत है.”

दिल्ली के विकास के कामों में उत्पन्न की जा रही बाधाओं को दूर करवाने के लिए संघर्ष जारी है

हमारा आत्मबल ही हमारी ताक़त है।

वहीं उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने ट्वीट कर कहा कि एलजी साहब के वेटिंग रूम में इंतजार करते हुए आज तीसरा दिन है. उन्हें वक्त नहीं मिला है कि IAS अफसरों की हड़ताल खत्म करने के आदेश दे सकें और राशन की फाइल पर मंजूरी दे सकें. तीन दिन से एलजी साहब का कुछ ना करना और उनकी जिद प्रमाण है कि IAS हड़ताल एलजी के इशारे पर ही चल रही है.

दिल्ली के मुख्यमंत्री ने कैबिनेट के वरिष्ठ सहयोगियों के साथ 11 जून को 5:30 बजे उप-राज्यपाल अनिल बैजल से मुलाकात की थी और उसके बाद से उनके दफ्तर में वे डेरा डाले हुए हैं.

 

क्या है मांग?
दिल्ली की आम आदमी पार्टी (आप) सरकार की मांग है कि आईएएस अधिकारियों को ‘हड़ताल’ खत्म करने के निर्देश दिए जाएं और ‘‘चार महीने’’ से काम में रोड़े अटका रहे अधिकारियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाए. दिल्‍ली के मुख्‍य सचिव अंशु प्रकाश से कथित तौर पर हुई मारपीट के बाद आईएएस अधिकारी हड़ताल पर चले गए थे.  मुख्यमंत्री गरीबों को उनके घरों तक राशन पहुंचाने के लिए सरकार के प्रस्ताव को मंजूरी देने की भी मांग कर रहे हैं. एलजी ने जब इन मांगों को मानने से इनकार कर दिया तो केजरीवाल और उनके साथियों ने एलजी हाउस में धरना शुरू कर दिया.

 

सियासी वार
अरविंद केजरीवाल
 के धरना को कांग्रेस ने नाकामियों को छुपाने वाला नाटक बताया है. तो वहीं बीजेपी ने आम आदमी पार्टी को ‘ड्रामा कंपनी’ करार दिया है. बीजेपी के विधायक मनजिंदर सिह सिरसा ने सिलसिलेवार ट्वीट में आप पर पलटवार करते हुए कहा, “अपनी विफलता को छुपाने के लिए आप उप राज्यपाल और प्रधानमंत्री पर आरोप लगा रही है.” उन्होंने पार्टी को ‘ड्रामा कंपनी’ कहा.

 

दिल्ली कांग्रेस के अध्यक्ष अजय माकन ने भी कहा कि अब दिल्ली के लोग पूर्ण रूप से महसूस कर रहे हैं कि- धरना देने में सबसे आगे केजरीवाल जी. भाषण देने में सबसे आगे मोदी जी. और, विकास करने में सबसे आगे कांग्रेस पार्टी !

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *